वाराणसी। काशी में संचालित स्मार्ट सिटी परियोजना के अन्तर्गत संचालित हो रही योजनाओं के सम्बन्ध में समीक्षा गोष्ठी की गयी, जिसमें इंटेलिजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम (आईटीएमएस) सेक्शन विकसित कर रहे अंशु मिश्रा, गुरूप्रित बैरा, देवेश आनन्द व प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसल्टेंट की टीम लीडर हेमलता द्वारा प्रचलित कार्यों का प्रजेंटेशन प्रस्तुत किया गया। बैठक की अध्यक्षता कर रहे एडीजी वाराणसी जोन पीवी रामाशास्त्री ने पार्किंग के स्थलों का चयन करके स्मार्ट पार्किंग की व्यवस्था शीघ्र करनें हेतु कहा गया। इस पर टीम लीडर हेमलता ने बताया कि 11 स्थलों में से केवल गोदौलिया पर पार्किंग का कार्य प्रगति पर है। शेष के सम्बन्ध में अभी कोई प्रगति नहीं है। यह दशा तब है जब पीएम का संसदीय क्षेत्र होने के नाते न तो फंड की कोई कमी है न संसाधन की। बावजूद इसके पार्किंग सरीखी अहम जरूरत से संबंधित विभाग मुंह मोडे हैं।

बिछ रहा है कैमरों का जाल

शहर के में कुल 61 चौराहों पर यातायात नियंत्रण हेतु ट्रैफिक कैमरे, पीटीजेड कैमरे व 100 अन्य स्थलों पर अपराध नियंत्रण हेतु सर्विलांस कैमरे लगाये जा रहे हैं। इसके अलावा 21 प्रमुख चौराहों पर 87 रेड लाइट वाइलेशन डिटेक्शन व आटोमेटिक नम्बर प्लेट रिगनिशन 87 कैमरे एवं 21 मल्टीसेंसर कैमरे लगाये जा रहे हैं। कुल 61 चौराहों पर 232 फिक्स कैमरे एवं 55 चौराहों पर पब्लिक एड्रेस सिस्टम लगवाये जा रहे हैं। साथ ही साथ 13 चौराहों पर वैरियेबुल मैसेज साइन बोर्ड भी लगवाये जा रहे हैं। आईजी रेंज विजय सिंह मीना ने कहा कि चौराहों पर जो भी कार्य विकसित किये जाये उनके सम्बन्ध में पुलिस से सतत समन्वय बना रहे। एसएसपी आरके भारद्वाज ने बताया कि परियोजना के अतिरिक्त शहर में पूर्व से लगे अन्य कैमरों को भी कमाण्ड सेंटर से इंटीग्रेड किया जाय। गोष्ठी में एपी सिटी दिनेश सिंह व एसपी ट्रैफिक सुरेशचंद्र रावत के अलावा जनपद के समस्त राजपत्रित पुलिस अधिकारी मौजूद रहे।

admin

No Comments

Leave a Comment