वाराणसी। इन दिनों देश भर में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में विपक्षी दलों ने सत्तारूढ़ भाजपा को ‘विकास’ के नाम पर घेरना शुरू कर दिया है। पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में अरबों की योजनाएं आयी हों लेकिन जमीनी स्तर पर एक भी पूरी नहीं हो सकी है। एक तरफ विपक्षी दलों ने इसे मुद्दा बना कर प्रचार-प्रसार शुरू कर दिया है जो दूरी तरफ आला अफसर योजनाओं को निजय समय में पूरा कराने में जुटे हैं। बावजूद इसके सबसे बड़ी चुनौती बेलगाम अपराधियों के रूप में सामने आ रही है। मंगलवार की रात लगभग दो बजे लंका थाने से कुछ ही दूरी पर रविदास गेट-रवींद्रपुरी मार्ग पर पाइप बिछवाने का काम कर रहे जल निगम के जेई सुशील कुमार गुप्ता और ठेकेदार कमलेश सिंह व भूपेंद्र सिंह पर लगभग 10-15 हमलावरों ने हॉकी-रॉड से हमला कर दिया। गंभीर रूप से घायल तीनों को ट्रॉमा सेंटर बीएचयू में भर्ती कराया गया है जहां उनकी हालत गंभीर बताई गई है।

नाक के नीचे मामला, लीपा-पोती में जुटी पुलिस

लंका इंस्पेक्टर का काफी पहले तबादला हो चुका है लेकिन एक मंत्री का वरदहस्त होने के चलते उन्हें रिलीव नहीं किया जा सका है। दूसरी तरफ मामला गंभीर होने के चलते बुधवार की सुबह एसएसपी आरके भारद्वाज ने ट्रामा सेंटर जाकर वारदात की जानकारी लेने के बाद इंस्पेक्टर लंका को कार्रवाई का निर्देश दिया। इस पर लंका पुलिस ने चार लोगों को उठाया है। देर रात तक इस बाबत लंका इंस्पेक्टर कुछ बताने से इनकार करते रहे लेकिन उनके अधीनस्थों का दावा था कि सीसी फुटेज के आधार पर आरोपितों को पकड़ लिया गया है। खास यह कि मंगलवार रात ही मलदहिया स्थित राजकीय निर्माण निगम के कार्यालय में घुसकर अवर अभियंता मोहम्मद शऊर खां पर हमला करने के साथ रंगदारी की मांग की गई थी।

admin

No Comments

Leave a Comment