हास्टल खाली करने पर नौबत धरना-प्रदर्शन की आयी तो बीएचयू प्रशासन ने दी सफाई, कोरोना से छात्रों के बचाव प्रतिबद्धता बतायी

वाराणसी। लॉक डाउन के तीन चरण मुश्किलों के बावजूद काटने वाले छात्र इन दिनों बीएचयू प्रशासन के एक निर्णय को लेकर खासे आक्रोशित हैं। बीएचयू में लॉक डाउन का चौथा चरण लागू होने के बाद हास्टलों को खाली कराया जा रहा है। इसके विरोध में रुइया, बिड़ला समेत दूसरे छात्रावासों में रहने वाले छात्रों ने गुरुवार को धरना देकर अपना विरोध का इजहार किया। मामला तूल पकड़ते देख बीएचयू की तरफ से सफाई पेश की गयी है। बीएचयू की तरफ से कहा जा रहा है कि कोविड-19 महामारी के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए गत दो महीने से देश भर में लॉकडाउन लागू है। ऐसे में बीएचयू के विभिन्न छात्रावासों में रहने वाले अधिकतर छात्र अपने घरों को लौट चुके हैं। हालांकि कुछ छात्र अपने घर नहीं लौट पाए थे व विश्वविद्यालय के विभिन्न छात्रावासों में रह रहे हैं। लॉकडाउन के चलते अगले कुछ हफ़्तों तक आॅनलाइन मोड को छोड़ कर कोई अन्य शैक्षणिक गतिविधि होने की संभावना नहीं है। कोविड19 की बढ़ती चुनौती के चलते विश्वविद्यालय प्रशासन छात्रों की सुरक्षा को लेकर चिंतित है।

बसों के प्रबंध का किया है दावा

पीआरओ बीएचयू राजेश सिंह के मुताबिक कई छात्रों की तरफ से विश्वविद्यालय प्रशासन को अनुरोध भी किये गए हैं कि वह घर जाना चाहते हैं। लॉकडाउन में मिली रियायतों के आलोक में छात्रावासों में रह रहे छात्रों को सुरक्षित उनके घर पंहुचाने के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन ने विशेष इंतजाम किये हैं। जिÞला प्रशासन के सहयोग से ऐसे छात्रों को घर भेजने के लिए जरूरी अनुमति/पास का तो प्रबंध किया ही गया है, इन छात्रों को बीएचयू से उनके घरों तक सुरक्षित पंहुचाने के लिए बसों की भी व्यवस्था की गई है। छात्रों के हित में और उनकी सुरक्षा का पूरा ध्यान रखते हुए उनका स्वास्थ्य परीक्षण हो रहा है और उन्हें यात्रा के लिए सैनेटाइजर व मास्क उपलब्ध कराए जा रहे हैं व जलपान की व्यवस्था भी की जा रही है। इन व्यवस्थाओं के तहत पिछले दो दिनों में तकरीबन 150 छात्रों को उनके घर पंहुचाया गया है। यात्रा के दौरान सोशल डिसटेंसिंग समेत सुरक्षा के मानकों का भी पूरा पालन किया जा रहा है। विश्वविद्यालय प्रशासन छात्रावासों में रह रहे अन्य छात्रों के भी सम्पर्क में है और उन्हे घर पंहुचाने के लिए भी व्यवस्थाएं की जा रही हैं।

वैकल्पिक प्रबंध का दिया हवाला

इसके अतिरिक्त जिन छात्रावासों में फिलहाल बहुत कम संख्या में छात्र बचे हैं ऐसे सभी छात्रों को वैकल्पिक व्यवस्था के तहत जोधपुर कालोनी स्थित दृश्य कला संकाय के नवनिर्मित छात्रावास में स्थानांतरित करने का फैसला लिया गया है और ये कार्य आरंभ हो गया है। छात्रों के लिए समुचित प्रबंधन की दृष्टि से विश्वविद्यालय प्रशासन ने ये निर्णय लिया है।

Related posts