ग़ाज़ीपुर। सेवराई तहसील क्षेत्र के करहियां गांव का रामलीला मैदान राजनीति के दो प्रदिद्वंदियों के मुलाकात का साक्षी बना। सकरवार क्षत्रिय सम्मेलन के मंच पर समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता व प्रदेश सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश सिंह थे तो उनके साथ मंच साझा कर रहे थे जमानियां विधानसभा के भाजपा विधायक सुनीता सिंह के पति परीक्षित सिंह। नदी के दो किनारे बन चुके इन दिग्गजों को एक ही मंच पर देख लोग कुछ देर के लिए हैरत में पड़ गए। लेकिन दोनों की तल्खी ने पूरा माजरा साफ बयां कर दिया। दरअसल सेवराई तहसील क्षेत्र के करहियां गांव में गुरुवार को श्रीप्रकाश सिंह की माता आशा देवी के श्राद्ध के मौके पर उत्तर प्रदेश और बिहार प्रांत के समस्त सकरवार क्षत्रियों का सीकरीवाल भ्रातृ सम्मेलन आयोजित किया गया था । जिसमें 10 बजते-बजते उत्तर प्रदेश और बिहार प्रांत से सकरवार क्षत्रियों का जमावड़ा शुरू हो गया करहिया गांव के ग्रामीणों द्वारा मां कामाख्या की जय घोष के साथ समस्त सकरवार क्षत्रियों का जोरदार स्वागत किया गया । कार्यक्रम की शुरुआत मां कामाख्या की वंदना से शुरू किया गया।

दूरियां कम थी लेकिन रिश्तों में दिखी तल्खी

सम्मेलन को संबोधित करते हुए पूर्व कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश सिंह ने कहा कि सकरवार क्षत्रियों का गौरवशाली इतिहास रहा है यह टूट सकते हैं लेकिन किसी के आगे झुक नहीं सकते ।आज जरूरत है समाज में व्याप्त कुरीतियों को दूर कर बच्चे और बच्चियों को एक समान समझते हुए अच्छी शिक्षा देकर समाज का उत्थान किया जा सकता है । भोजन भाव का होता है लेकिन आज युवाओं में भावना की बहुत बड़ी कमी दिखाई दे रही है । यह देश का एक सबसे बड़ा एक ऐसा सम्मेलन है जहां सभी एक समाज के लोग एक टाट पर बैठते हैं और अपने दुख दर्द और गाथा को समाज के सामने व्यक्त करते हैं। क्षेत्रीय विधायक सुनीता सिंह के पति व भाजपा नेता परीक्षत सिंह ने कहा कि किसी भी व्यक्ति को सबसे पहले अपना इतिहास जानना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि सीकर से पहले हम लोग महाराजा कर्ण सिंह के खानदानी है इसलिए सकरवार वंश से पूर्व सिसोदिया वंश से ताल्लुक रखते हैं ।

admin

No Comments

Leave a Comment