कोरोना से क्या खाक लड़ेंगे ?, घरों के बाहर जलाए जा रहे हैं दीपक

वाराणसी। कोरोना से पूरे देश में दहशत का माहौल है। कोरोना के खतरे से निबटने के लिए देश के 75 जिलों में लॉकडाउन कर दिया। संकट की इस घड़ी में लोगों की सांसें थमी हैं। डर इस बात की है कि कहीं भारत में भी कोरोना महामारी की तरह ना फैल जाए। बावजूद इसके लोग सरकार के निर्देशों का पालन करने के बजाय लोग अंधविश्वास का सहारा ले रहे हैं।

घरों के बाहर जलाए जा रहे हैं दीये

विशेषज्ञयों के मुताबिक भारत में कोरोना अभी सेकेंड स्टेज में है। लेकिन जब ये थर्ड स्टेज में पहुंचेगा तो महामारी का शक्ल ले लेगा। डॉक्टरों और सरकार की भी असल चिंता यही है। लेकिन आम लोग अब भी बेफिक्र है। तभी तो लोग सरकार के आदेशों को मनाने के बजाय अपने स्तर से इससे लड़ने की कोशिश कर रहे हैं। पूर्वान्चल के कई शहरों में लोग अपने घरों के बाहर शाम के वक्त दीपक जला रहे हैं। यह प्रयास है की घर में बच्चे सुरक्षित रहे। इसके लिए घरों में मिट्टी के दीए बच्चों के नाम पर चलाए जा रहे हैं। मिट्टी के दीए जलाने से लोगों को लगता है कि कोरोना वायरस से बच्चे बच जाएंगे। 

बाजार से खत्म होने लगे दीये

अंधविश्वास का आलम ये हैं कि मार्केट में अब मिट्टी के दिए खत्म होने लगे हैं। लोगों को दीये खरीदने के लिए अधिक पैसे चुकाने पड़ रहे हैं। दीये जलाने की ये ट्रेंड ग्रामीण इलाके में अधिक देखने को मिल रहा है। शाम ढलते ही महिलाएं घरों के बाहर दीपक जला रही हैं। महिलाओं का तर्क है कि ऐसा करने से परिवार कर बच्चे सुरक्षित रहेंगे। 

मंत्र से कोरोना भगाने का दावा

कोरोना से लड़ने के बजाय अंधविश्वास का सहारा लेने की  ये कहानी अकेली नहीं है। इनके पहले वाराणसी के लंका इलाके में एक ज्योतिषी ने तंत्र मंत्र के जरिये कोरोना खत्म करने का दावा किया था। यहीं नहीं उसने तो बाकायदा पर्चे भी छपवाए थे। सूचना मिलने पर पुलिस ने ज्योतिषी को हिरासत में ले लिया था। 

Related posts