अतुल राय खेमे से भाजपा प्रत्याशी के आरोपों पर ‘पलटवार’, प्रशासन कर रहा स्पष्ट निर्देशों का इंतजार!

मऊ। चुनावी माहौल में ऐसा कम ही देखने को मिलता है। किसी प्रमुख राजनैतिक दल का प्रत्याशी नामचीन अपराधी की तर्ज पर फरार हो और अज्ञात स्थान से पूरा ‘मैनेजमेंट’ सभाल रहा हो। सपा-बसपा गठबंधन अतुल राय के संग कुछ ऐसा ही हो रहा है। दुष्कर्म के मामले में हाइकोर्ट तक किसी तरह की मुरौव्वत से इनकार कर चुका है और आरोपों की गंभीरता देखते हुए वह जान रहे हैं कि पकड़े जाने के बाद मामला ठंडा नहीं होगा। इस बीच भाजपा प्रत्याशी हरिनारायण राजभर की तरफ से अतुल राय के 33 आपराधिक मुकदमे होने के बावजूद हलफनामे में 13 का जिक्र करने का मामला उठाया तो उन्हें भी आरोपों के घेरे में लिया गया। जिला प्रशासन को दिये आवेदन में कुछ ऐसे ही आरोप अतुल राय खेमे की तरफ से लगे हैं।

सफाई के संग दिखायी दृढ़ता

अतुल राय को जिला प्रशासन की तरफ से सोमवार को 11 बजे तक जवाब दाखिल करना था। इस क्रम में जहां अपने खिलाफ 13 मामले ही लंबित होने का वास्ता देते हुए शिकायतकर्ता पर ही आरोप मढ़े गये। साथ ही दावा किया गया कि जिन मामलों का हवाला दिया जा रहा है वह संज्ञान में ही नहीं थे। समूचे प्रकरण को लेकर जिला प्रशासन असमंजस की स्थिति में हैं। चुनाव अयोग को मामले रेफर कर दिया गया है और वहां से ली गयी विधिक सलाह के बाद ही एक्शन लिया जायेगा।

Related posts