प्रवासी मजदूरों को लेकर ग्राम प्रधानों को मिली नई ‘जिम्मेदारी’, होम क्वारंटाइन की स्थिति में रखनी होगी निगरानी

वाराणसी। देश के विभिन्न हिस्सों से आने वाले प्रवासी मजदूरों के चलते कोरोना वायरस का संक्रमण फैलता देख प्रशासन अलर्ट हो चुका है। सीजीओ मधुसूदन हुलगी ने स्पष्ट किया कि स्क्रीनिंग ट्रांसिट पॉइंट पर होकर प्रवासी मजदूरों को होम क्वारंटाइन में रखा जा रहा है। इसके लिये प्रत्येक ग्राम पंचायतों में ग्राम निगरानी समिति का गठन किया गया है जिनके अध्यक्ष संबंधित ग्राम के प्रधान है। क्वारंटाइन के नियमों का उल्लंघन करने पर तत्काल क्वारंटाइन किए गए व्यक्तियों को फेसिलिटी क्वारंटाइन मे स्थानांतरण करते हुए पंचायत सचिव द्वारा एफआईआर कराया जाएगा। निगरानी समिति ग्राम में जिला प्रशासन की अनुमति के बिना व अन्य मार्गो से प्रवेश किए गए व्यक्तियों की सूचना तत्काल कंट्रोल रूम को उपलब्ध कराई जायेगी। किसी भी प्रकार की शिकायत प्राप्त होने पर जिलास्तरीय कंट्रोल रूम 7880854464 संपर्क कर अपनी शिकायत नोट कराएं, जिससे अग्रिम कार्रवाई की जा सके

यह हैं निगरानी समिति का दायित्व

सीडीओ ने बताया कि निगरानी समिति का दायित्व होगा कि वह अपने ग्राम में प्रतिदिन क्षेत्रीय भ्रमण कर एक किस दिन हेतु होम कांटेक्ट किए गए व्यक्तियों को स्वास्थ्य के विषय में जानकारी प्राप्त करेगी। निगरानी समिति द्वारा ग्राम में जिला प्रशासन की अनुमति के बिना व अन्य मांगों से प्रवेश किए गए व्यक्तियों की सूचना तत्काल कंट्रोल रूम को उपलब्ध कराई जाएगी। ग्राम पंचायतों में नियमित रूप से ब्लीचिंग पाउडर, सोडियम, हाइपोक्लोराईड छिड़काव व साफ-सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। ग्राम निगरानी समिति की यह जिम्मेदारी होगी कि अन्य राज्य एवं अन्य जिलों से आए प्रवासी श्रमिकों को 21 दिन तक अपने घर में होम क्वारंटाइन रहने हेतु निर्देशित करें।

21 दिन की होम क्वारंटाइन हेतु सामान्य निर्देश

इसके साथ ही बाहर से आने वालों को 21 दिन की होम क्वारंटाइन हेतु सामान्य निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि तत्काल ऐसे व्यक्ति के घर पर पलायर चस्पा किया जाए। प्रवासी पृथक पक्ष में रहे। गमछा मास्क दुपट्टा का प्रयोग करें। आवश्यक वस्तुओं की खरीदारी के लिए घर से मात्र 1 सदस्य को ही बाहर जाने की अनुमति दी जाए। आशा के द्वारा 7 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्ग, गर्भवती महिलाएं एवं मधुमेह, हाई ब्लड प्रेशर, वह हृदय रोग जैसी ग्रसित व्यक्तियों को उपरोक्त व्यक्ति से पृथक रहने की सलाह दी जाए। उन्होंने बताया कि यदि किसी व्यक्ति/परिवार द्वारा होम क्वारंटाइन के नियमों का उल्लंघन किया जाता है तो तत्काल क्वारंटाइन किए गए व्यक्तियों को फेसिलिटी क्वारंटाइन मे स्थानांतरण करते हुए लेखपाल, पंचायत सचिव को सूचित किया जाएगा। ऐसे व्यक्ति के विरुद्ध पंचायत सचिव द्वारा विधिक कार्यवाही करते हुए एफआईआर करा दिया जाएगा।सभी ग्रामवासी झोलाछाप इलाज करने वाले व्यक्तियों से विशेष तौर पर सचेत रहें ग्राम पंचायत में यदि कोई अपरिचित व्यक्ति इलाज करते हुए पाया जाता है तो उसके विरुद्ध कठोर विधिक कार्रवाई की जाएगी। होम क्वारंटाइन किए गए व्यक्तियों द्वारा अगर नियमों का उल्लंघन किया जाता है तो उक्त व्यक्ति एवं उसके परिवार के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Related posts