वाराणसी। भ्रष्टाचार के लिए बदनाम रहे वारामणी विकास प्राधिकरण के कर्मचारी इन दिनों अपनी सम्पति का विवरण तैयार करने में खासे परेशान है। सम्पति का ब्योरा तैयार करने में उनके पसीने छूट रहे हैं। वजह,आम जनमानस की पहुंच में वीडीएकर्मियों की चल अचल संपत्ति की सूचना साफ्टवेयर में अपलोड करने के लिए वीसी पुलकित खरे ने जो डेड लाइन तय की थी वह गुरुवार को खत्म हो गयी लेकिन पांच दर्जन कर्मचारी अब तक विवरण नहीं दे पाये हैं। वीसी ने दो दिन की मोहवत देते हुए चेतावनी दी है कि 9 दिसंबर तक सम्पति का विवरण नहीं दिया तो विजलेंस से जांच की संस्तुति की जायेगी।

तीन चौथाई ने जमा कर दिया है विवरण

प्राधिकरण में चल अचल संपत्तियों के विवरण जमा करने एवं वीडीए वेबपोर्टल पर तैयार किए जा रहे विशेष वेब टेक्नोलोजी सॉफ्टवेयर पर अपडेट किये जाने के कार्य की वीसी ने समीक्षा की। समीक्षा में स्पष्ट हुआ कि प्राधिकरण के 245 अधिकारियों एवं कर्मचारियों में 185 के द्वारा अपनी चल अचल संपत्ति का विवरण अधिष्ठान अनुभाग को प्राप्त करा दिया गया है। शेष बचे 60 अधिकारियों एवं कर्मचारियों को उपाध्यक्ष महोदय द्वारा 9 दिसंबर तक का अंतिम अवसर प्रदान किया गया है। इसके बाद विवरण जमा न करने वाले अधिकारियों एवं कर्मचारियों के विरुद्ध विजिलेंस जांच की संस्तुति की जाएगी।

admin

No Comments

Leave a Comment