वाराणसी। विधानसभा चुनाव में सपा की करारी हार और सूबे में भाजपा की सरकार बनने के बाद बाहुबली विधायक रघुराज प्रताप सिंह राजा भैया की सीएम योगी अदित्यनाथ से नजदीकियां बढ़ती जा रही है। सोमवार को विधानसभा के सेन्ट्रल हाल में फिर से ऐसा ही कुछ देखने को मिला। मौका था वरिष्ठ पत्रकार धीरेन्द्र श्रीवास्तव की पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर पर लिखी पुस्तक के विमोचन का। ‘राष्ट्रपुरूष चंद्रशेखर: संसद में दो टूक’ में पूर्व प्रधानमंत्री के संसद में विभिन्न विषयों पर दिये भाषणों का संग्रह है।

AP 09 500x302

कई मौके पर देखे जा चुके हैं साथ-साथ

प्रतापगढ़ की कुंडा सीट से राजा भैया छठीं वार विधायक चुने गये हैं। अब तक के राजनैतिक सफर में राजा भैया ने किसी दल का दामन नहीं थामा है और हर बार वह निर्दलीय विधायक के रूप में चुने जाते रहे हैं। यह बात दीगर है कि वह भाजपा की सरकार में भी मंत्री रहे हैं और सपा में भी। सपा की पिछली सरकार के गठन के समय कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लेने वाले राजा भैया अपने इलाके में तैनात सीओ की हत्या के बाद विवादों में फंस गये थे। इस्तीफा देने के बाद मामले में क्लीनचिट मिलने पर उन्हें दोबारा मंत्री बनाया गया लेकिन महत्वपूर्ण विभाग नहीं दिये गये। अखिलेश से राजा भैया के संबंध ऐसे नहीं रहे जैसे मुलायम के साथ थे। अलबत्ता सूबे में भाजपा की सरकार बनने के बाद कई मौके पर उन्हें साथ देखा गया है।

AP 10 500x302

सीएम ने चंद्रशेखर से प्रेरणा लेने की दी सीख

चंद्रशेखर की जंयती के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में सीएम योगी आदित्यनाथ ने उनके जीवन से सीख लेने की सलाह दी। उनका कहना था कि संसद में चंद्रशेखरजी को सुनना भी उनके लिए प्रेरणा दायक है। किसी भी विषय पर वह बेबाकी से राय रखते थे। उनका जीवन संघर्षमय था और अपनी मेहनत और काबलियत से उन्होंने मुकाम हासिल किया। कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित समेत बड़ी संख्या में विधायक शामिल थे। संचालन एमएलसी यशवंत सिंह ने किया।

admin

No Comments

Leave a Comment