चंदौली। यूपी बोर्ड की परीक्षाएं मंगलवार से शुरू हो गई। पहले दिन ही सख्ती का असर देखने को भी मिला है। परीक्षा के दौरान प्रथम पाली में एक विद्यालय के मैनेजर को स्कूल परिसर में घूमते देख सेक्टर मजिस्ट्रेट में जेल भेजने का आदेश किया वहीं एक के फर्जी कक्ष निरीक्षक को विद्यालय में ड्यूटी करते पाया गया जिससे जेल की हवा खानी पड़ी। इस बार सरकार ने सीसी कैमरे से निगरानी समेत दूसरे प्रबंध किये है जिसका नतीजा रहा कि प्रथम पाली में एक हाई स्कूल की छात्रा को रेस्टीकेट किया गया। दूसरी पाली में कोई भी छात्र अनैतिक कार्य करते नहीं पकड़ा गया।

कमउम्र का कक्ष निरीक्षक देखकर हुआ था शक

सेक्टर मजिस्ट्रेट गुलाब चंद्र के मुताबिक चंदौली तहसील क्षेत्र स्थित रमा शंकर इंटर कॉलेज अमड़ा के प्रबंधक सुधीर कुमार सिंह को स्कूल परिसर में अनैतिक कार्य करते हुए देख गिरफ्तार कर जेल भेजने का आदेश दिया गया। वहीं सदर तहसील क्षेत्र के ही देव नारायण इंटर कालेज बसीला में एक फर्जी कक्ष निरीक्षक ड्यूटी कर रहा था। लगभग 22 साल के इस कक्ष निरीक्षक सुरेंद्र प्रताप पर दौरा कर रहे स्क्वायड अधिकारियों को शक हुआ। पूछताछ की गई तो वह कोई उचित जवाब ना दे सका। उसके खिलाफ वैधानिक कार्यवाही करते हुए जेल भेज दिया गया।

जिले में है लगभग एक लाख परीक्षार्थी

चंदौली में 10 वीं के 51,611 परीक्षार्थी तथा 12वीं के 43,448 परीक्षार्थी शिरकत कर रहे है। सख्ती के चलते आशंका जतायी जा रही है कि सभी परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल नहीं होंगे। जिले में 81 परीक्षाकेंद्रों की शुचिता बनाए रखना प्रशासन के लिए चुनौती है। दरअसल, 34 संवेदनशील व 47 परीक्षाकेंद्र अतिसंवेदनशील हैं जबकि 21 परीक्षाकेंद्रों की छवि साफ सुथरी मिली है।

admin

No Comments

Leave a Comment