वाराणसी। केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल के काफिले में घुसकर गाली गलौज करने के मामले में आरोपित विपिन सिंह, बासुदेव मिश्रा व आशुतोष मौर्या की जमानत याचिका सोमवार को सुनवाई के बाद प्रभारी एसीजेएम (दशम) रविप्रकाश साहू की अदालत ने मंजूर कर ली। अदालत ने तीनों आरोपियों को 20-20 हजार रुपये की दो जमानतें एवं बंधपत्र देने पर रिहा करने का आदेश दिया। आरोपितों की ओर से अदालत में अधिवक्ता प्रभात सिंह व विनोद यादव ने पक्ष रखा। तीनों आरोपित वीएएमएस के छात्र हैं और वाई श्रेणी सुरक्षा प्राप्त केंद्रीय मंत्री की फ्लीट में मीरजापुर की चील्ह पुलिस चौकी से औराई तक बार-बार घुसने की कोशिश की थी। एस्कार्ट ने रोकने की कोशिश की तो उलझ गये जिसके बाद मिर्जामुराद पुलिस ने हाइवे पर बैरिकेटिंक कर तीनों को गिरफ्तार किया था।

कुछ यू रहा था घटनाक्रम

गौरतलब है कि केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल रविवार को दिन भर इलाके में विभिन्न कार्यक्रमो में शामिल होने के बाद नई दिल्ली जाने की फ्लाइट पकड़ने की खातिर बाबतपुर एयरपोर्ट लौट रही थी। केन्द्रीय मंत्री की फ्लीट में बगैर नंबर की फोर्ड कार सवार तीन युवक घुस आए। मना करने पर तीनो युवकों ने गालीगलौज देना शुरू कर दिया। स्कॉर्ट वाहन में मौजूद पुलिसकर्मियों और पीआरओ ने कार सवार तीनों युवकों को ऐसा करने से मना किया तो सभी बदसलूकी पर उतर आए। मामले को गंभीर होता देख केंद्रीय मंत्री ने पुलिस अधिकारियों को फोन कर घटना की जानकारी दी तो मिजार्मुराद में पुलिस ने हाईवे पर बैरिकेडिंग कर कार रोकी और तीनों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की। तीनों युवकों विपिन सिंह, बासुदेव मिश्रा व आशुतोष मौर्या मुकदमा कायम कर गिरफ्तार कर लिया गया था।

admin

No Comments

Leave a Comment