बलिया। यूपी के बलिया में बुआ और बबुआ (मायावती और अखिलेश यादव) के गठबंधन को लेकर यूपी के श्रम एवं समायोजन कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या के बयान के बाद नया घमासान छिड़ गया है। फेफना के बीएसपी विधायक उमाशंकर सिंह ने स्वामी प्रसाद पर पलटवार करते हुए बड़ा आरोप लगाया है। दरअसल एक कार्यक्रम में शामिल होने आये स्वामी प्रसाद ने सोमवार को कहा था कि बुआ और बबुआ का गठबंधन 2019 के चुनाव से पहले ही आपसी लड़ाई से टूट जाएगा क्योकि इनका गठबंधन मुद्दों पर आधारित नही है। बगैर मुद्दों का कोई भी गठबंधन सफल नही होता है।

कैबिनेट मंत्री को बताया अवसरवादी

बीएसपी विधायक उमाशंकर सिंह ने स्वामीप्रसाद मौर्या पर निशाना साधते हुए हमला बोला कि मौर्या अवसरवादी नेता हंै। ऐसे लोगो के पास दल, पार्टी और कोई चरित्र नहीं होता है। इनके मन मे कोई मशीन लगाएंगे तो मशीन बताएगी की यह खुद गठबंधन में शामिल होकर चुनाव लड़ना चाहते है। उप चुनाव में बुआ और बबुआ के गठबंधन की जीत को देखते हुए मौर्या भी इस जुगाड़ में लगे है किसी न किसी रास्ते गठबंधन में शामिल हो जाय जिससे वो चुनाव जीत सके। बसपा सुप्रीमो मायावती के अत्यंत करीबी माने जाने वाले उमाशंकर सिंह ने स्वामी प्रसाद मौर्या की पार्टी में वापसी को लेकर हुए सवाल के जवाब में कहा कि क्या करना है और क्या नहीं करना है, इस तरह के फैसले बहनजी करती हैं। उन्होंने कहा कि जो भी बसपा को छोड़कर गया उसका कहीं और भला नहीं हुआ। बहन जी का मानना भी यही है कि जो भी पार्टी को दगा दिया नुकसान उसका ही हुआ।

admin

No Comments

Leave a Comment