वाराणसी। लंबे समय से नक्सली हिंसा से प्रभावित छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में रविवार की भोर में हुए आईईडी ब्लास्ट ने काशी और गाजीपुर के दो परिवारों को जीवन भर का जख्म दे दिया। ब्लास्ट में जहां बसनी (बड़ागांव) के दल्लूपुर निवासी रविनाथ सिंह पटेल (23) तो शादियाबाद (गाजीपुर) के बरईपारा गांव निवासी अर्जुन राजभर (25) भी शहीद हो गये हैं। घटना की जानकारी मिलने के बाद इलाके में कोहराम मच गया है। रविनाथ तो छुट्टी पर अगले सप्ताह आने वाला था और अपनी बहन का बरक्षा चढ़ाने की खातिर जाना था। दूसरी तरफ अर्जुन कुछ दिन पहले ही परिवार को साथ लेकर गया था।

मां-बाप को बताने की नहीं हो रही हिम्मत

बेटे के शहीद होने की जानकारी पिता सत्यप्रकाश पटेल व मां अनिता बताने की हिम्मत कोई नहीं जुटा पा रहा है। अलबत्ता सिर्फ इतना बताया है कि बेटा सड़क हादसे में जख्मी हो गया है। रविनाथ का बड़ा भाई कोलकाता में प्राइवेट नौकरी करता है जबकि बहन सरिता ने हाल में पढ़ाई पूरी की है। सरिता का वरक्षा चढ़ाने के लिए 30 मई को जाना था। रविनाथ अविवाहित था और 2013 में सीआरपीएफ में भर्ती हुआ था। पिता गांव में खेतीबाड़ी करते हैं और मकान भी कच्चा है। शहीद का शव सोमवार की सुबह गांव आयेगा।

admin

No Comments

Leave a Comment