मीरजापुर। सत्ता को चलाने वाले शीर्ष राजनेता और अफसर आंकड़ों के आधार पर दावे करते रहते हैं लेकिन इसकी जमीनी हकीकत कुछ और ही होती है। प्रदेश के परिवहन, ऊर्जा एवं प्रोटोकाल राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वतंत्र देव सिंह बुधवार को अपने पैतृक गांव ओडी प् में एक तिलकोत्सव में शामिल होने पहुंचे पहुंचे तो उनका सच से सामना हुआ। यहां की प्राथमिक विद्यालय में उन्होने चौपाल लगायी थी लेकिन प्रधानमंत्री आवास के लाभार्थियों के चयन में अनियमितता और वसूली के आरोपों के चलते देर तक हंगामा हुआ। बवाल बढ़ता देख राज्यमंत्री को कहना पड़ा कि मामले की जांच करा कर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद लोग शांत हुए। मंत्री का दावा था कि भाजपा सरकार में कदाचार नहीं होगा और 2022 तक सभी गरीबों को छत मिलेगी।

पहली बार परिवहन निगम को लाभ

राज्यमंत्री का दावा था कि परिवहन विभाग को पहली बार आठ करोड़ का फायदा हुआ जबकि पिछली सरकारों में घाटा दिखाया गया था। गरीबों को बिजली का मुफ्त कनेक्शन दिया जाएगा। भारतीय माइक्रो एनजीओ के माध्यम से सोलर चरखा, सोलर लूम, रेडीमेड गारमेंट्स, डाई डेली आर्गेनिक खेती के सेंटर खोले जाएंगे। बीडीओ दिनेश प्रताप सिंह ने सरकार की ओर से चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी दी। बीएसए प्रवीण कुमार तिवारी ने प्राइमरी विद्यालय को आदर्श बनाने का आश्वासन दिया। सीडीपीओ आरएन सिंह ने योजना के तहत मिलने वाली सुविधाओं की जानकारी दी। राज्यमंत्री की ओर से ओडी गांव को गोद लेने का फैसला लिया गया, जिस पर लोगों ने खुशी जताई।

admin

No Comments

Leave a Comment