बलिया। जिंदापुर गांव (सिकंदरपुर) में शुक्रवार की देर से रात कर्बला से ताजिया दफन कर वापस आते समय ताजिया ईदगाह के समीप हाईटेंशन तार की चपेट में आ गयी करंट की चपेट में आने से तीन की घटनास्थल पर ही मौत हो गई वहीं चार गंभीर रूप से झुलस गए। आसपास मौजूद लोगों ने घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य सिकंदरपुर पहुंचाया जहां प्राथमिक उपचार के बाद हालत गंभीर होने पर चिकित्सक ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया। हादसे की जानकारी जैसे ही आला अधिकारियों को मिली हड़कंप मच गया। मौके पर एसडीएम सिकंदरपुर राजेश कुमार यादव सीओ विजय प्रताप यादव एसओ अनिल चंद तिवारी पहुंच शव को कब्जे में लेकर देर रात जिला मुख्यालय भिजवा दिए। झुलसे व्यक्तियों के परिजनों का आरोप है कि ताजिया के समय हर साल हाईटेंशन तार में लाइट काट दी जाती थी लेकिन इस साल उसमें लाइट दी गई जिसे इतना बड़ा हादसा हुआ। यदि हम लोगों को जानकारी होती कि इसमें लाइट आ रही है तो हम लोग सचेत रहते हैं। घटना को लेकर तनाव है जिसे ध्यान में रखते हुए फोर्स तैनात की गयी है। राजनैतिक दलों में आरोप-प्रत्यारोप भी शुरू हो गये हैं।

आधी रात के बाद हुआ दर्दवनाक हादसा

गौरतलब है कि जिंदापुर गांव निवासी शुक्रवार की शाम को मोहर्रम का ताजिया दफनाने के लिए गांव से 2 किलोमीटर दूर कर्बला में लेकर गए वहां से करीब 12 बजे रात को वह वापस आ रहे थे। सभी ईदगाह के समीप पहुंचे थे कि ताजिया हाईटेंशन तार की चपेट में आ गई जिससे ट्रैक्टर की ट्राली में भी करंट आ गया। इसमे बैठे सलीम (18) , इमरान (16 ), सनी खान (18) की घटनास्थल पर ही मौत हो गई वहीं आसिफ (14) एजाज खान वसीम (16), सुवेब खान गुड्डू ( 35) मैनूदिन कैशअली (12) और फैज अहमद गंभीर रूप से झुलस गए। ट्राली में सवार एक दर्जन से अधिक लोग कूद कर भागने लगे जिनको मामूली चोटे आई। हादसे के बाद कोहराम मच गया और इसकी जानकारी मिलते ही घटनास्थल पर भारी जुट गई। लोगों ने जैसे तैसे झुलसे लोगों को अस्पताल पहुंचाया वहीं पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

admin

No Comments

Leave a Comment