चोरी की बाइक और चार अज्ञात, सिपाही को गोली मारने के मामले में यही है ‘खास’

गाजीपुर। कानून-व्यवस्था के मोर्चे पर शासन से लेकर सीएम तक रोजाना दावे करते हैं लेकिन जमीनी हकीकत किसी से छिपी नहीं है। दशा तो यह हो चुकी है कि गुरुवार की रात लूट की वारदात को अंजाम देकर भाग रहे बदमाशों ने वर्दी धारी सिपाही को रोकने की कोशिश करने पर गोली मार दी। सिपाही को गोली मारने के बाद बदमाश वहां से भागने में सफल रहे। पुलिस के हाथ बदमाश तो नहीं लगे लेकिन एक बाइक और पिस्टल मिली है। बाइक चोरी की निकली जबकि पिस्टल कंट्रीमेट थी। दुस्साहसिक वारदात के एक दिन बाद पुलिस चार अज्ञात बदमाशों के खिलाफ मुकदमा रोजना मचे में दर्ज करने के अलावा कुछ बताने की स्थिति में नहीं है।

कुछ यूं रहा समूचा घटनाक्रम

गौरतलब है कि गुरुवार की रातमियना के पास बदमाशों ने एक बाइक सवार को रोककर उसकी बाइक छीन ली। लूट के बाद चारों बदमाश भड़सर की तरफ भागने लगे लेकिन सूचना प्रसारित होने पर कछुहरा पुलिया के पास दुल्लहपुर, मरदह और बिरनो की पुलिस ने बदमाशों को घेर लिया। पुलिस की घेराबंदी देख बदमाशों ने फायरिंग शुरू कर दी। गोली मरदह थाने के सिपाही विक्रम सिंह के हाथ में जा लगी। एक दूसरे सिपाही ने डंडे से वार किया तो पिस्टल गिर गयी लेकिन सभी बदमाश भाग निकले। वर्दीधारी को गोली लगने पर बौखलाये पुलिसवा लोंने तलाश की लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। एसपी का दावा है कि जल्द बदमाशों को कानून के शिकजे में जकड़ा जायेगा।

Related posts