वाराणसी। जिले में एक माह के दौरान हुए अपराध की समीक्षा के साथ उनके खुलासे से लेकर दूसरे पहलुओं पर अपराध समीक्षा बैठक में मंथन होता है। जिले का कप्तान इसकी अध्यक्षता करता है और किन्ही कारणों से वह नहीं है तो जिसके पास प्रभार होता है वह इस जिम्मेदारी को निभाता है। शनिवार को पुलिस लाइंस स्थित सभागार में क्राइम मीटिंग में अचानक जोन के मुखिया एडीजी पीवी रामाशास्त्री आ धमके। एडीजी ने भयमुक्त,अपराध तथा भ्रष्टाचारमुक्त पुलिसिंग पर जोर दिया। साथ ही उन्होंने संगठित रूप से अपराध करने और कराने वाले माफिया और उनके गुर्गो की गतिविधियों को नये सिरे परखने के निर्देश दिये। एडीजी का मानना था कि यदि कोई छूट गया हो तो उसे भी नयी सूची में शामिल कर प्रभावी ढंग से कार्रवाई की जाये जिसका असर दिखे।

चिह्नित करें जाम के हॉट स्पाट

ट्रैफिक पुलिस नित नये प्रयोग कर खुद वाहवाही भले लूट ले लेकिन इससे एडीजी कत्तई संतुष्ट नहीं दिखे। उन्होंने स्पष्ट शब्दों में आदेश दिये हैं कि शहर के जाम के इलाकों को हॉट स्पाट के रूप में चिह्नित करने के संग प्रभावी ढंग से इसके निस्तारण के लिए कार्ययोजना तैयार की जाये। इसे लागू करने के पहले उनके सामने पेश किया जाये जिससे यदि कोई और संशोधन की आवश्यकता हो तो उसे शामिल करा लें।

महाशिवरात्रि को लेकर दिखे संवेदनशील

एडीजी ने आगामी महाशिवरात्रि पर्व पर सुरक्षा प्रबंधों को लेकर अधीनस्थों से विस्तार से जानकारी ली। श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर समेत दूसरे मंदिरों के अलावा सड़को पर फोर्स की मौजूदगी से लेकर महिलाओं की सुरक्षा को लेकर निर्देश दिये। जनशिकायतों की गुणवत्तापूर्वक निस्तारण के संग अपराध और अपराधी पर लगान कसने की अपेक्षा अधीनस्थों से जतायी है। बैठक में आईजी रेंज दीपक रतन,एसएसपी आरके भारद्वाज के अलावा एसपी सिटी दिनेश सिंह समेत सभी एएसपी,सीओ और थानेदार मौजूद थे।

admin

No Comments

Leave a Comment