चंदौली। प्रदेश पुलिस के मुखिया डीजीपी ओपी सिंह ने सूबे के हर जिलों में होने वाले ‘गुडवर्क’ में प्रतिस्पर्धा पैदा कर दी है। दैनिक कार्य की समीक्षा रोजाना होती है और इस पर कामकाज का आकलन किया जाता है। बड़े और ‘तीरंंदाज सूरमाओं’ से लैस कोतवालों की पिछड़ाते हुए चंदौली जनपद ने इस माह में तीसरी बार, पिछले कुछ माह में छठीं बार इस उपलब्धि को हासिल किया है। प्रदेश तीन बेस्ट गुडवर्क आॅफ द डे में चंंदौली की दावेदारी लगातार रही है। एसपी संतोष कुमार सिंह के निर्देशन में टीम के कामकाज का नतीजा है कि कई बड़ी वारदात होने से टल गयी।

न नाम न पता, होनी थी हत्या

ताजा मामला मुगलसराय कोतवाली में पकड़े गये शीटर्र का है। पुलिस को सिर्फ यह पता था कि देवरिया जेल से मिली सुपारी पर कुशीनगर से शूटर्स आ रहे हैं। कुशीनगर के पूर्व सांसद को भी जिस कार्यक्रम में शामिल होने था वहां वारदात को अंजाम दिया जाना था। इस क्लू पर पुलिस ने नेटवर्क को खंगाला तो स्पष्ट हुआ कि मारना पार्षद को है। सपा के कार्यक्रम में वारदात को अंजाम दिये जाने के बाद सूबे में राजनैतिक सरगर्मी बढ़ती और सत्ताधारी दल को खामियाजा भुगतना पड़ता।

डिस्ट्रिक बार एसोशिएशन ने किया सम्मानित

एसपी संतोष कुमार सिंह द्वारा सराहनीय एवं दीर्घ सेवाओं के लिए डीजीपी द्वारा राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित किया गया है। इसके परिपेक्ष्य में शुक्रवार को डिस्ट्रिक बार एसोशिएशन चन्दौली के अधिवक्तागणों द्वारा एसपी को माल्यार्पण कर सम्मानित करते हुए स्मृति चिन्ह भेंट किया गया। अधिवक्तागणों का कहना था कि जब से संतोष कुमार सिंह एसपी बनकर आये है तब से जनपद में अपराध के ग्राफ में काफी कमी आयी है तथा अपराधियों के विरुद्ध व्यापक स्तर पर कार्यवाही की जा रही है जिससे अपराधी भयभीत है। एसपी ने भी सभी अधिवक्ता बन्धुओं को सहृदय धन्यवाद दिया।

admin

Comments are closed.