ऐसे भी आ रहे हैं बाराती: कहीं पर किया दुष्कर्म का प्रयास तो कहीं बकरे चुरा कर भाग निकले

वाराणसी। पहले कहीं पर बारात आती थी तो आपसी मतभेद भुला कर पूरा गांव उसकी खातिर एक हो जाता था। समय बदलने के साथ पुरानी बाते खत्म हो रही है। बाराती भी ऐसे आ रहे हैं जिन्हें कोई कुकर्म करने में गुरेज नहीं है। शुक्रवार को कपसेठी थाने में दर्ज हुए दो मामलों के आरोपित बाराती है। दुष्कर्म के मामले में तो नामजद रिपोर्ट दर्ज हुई है जबकि बकरों को चुरा कर भागने वाले अज्ञात दर्शाये गये हैं।

रिश्तेदार था दुष्कर्म प्रयास का आरोपित

बताया जाता है कि राखी-नेवादा गांव की दलित बस्ती में आरोपित युवक की रिश्तेदारी है। आरोपित एक वारात में शामिल होने के लिए आया था। गाँव में बारात आने के कारण युवती घर पर अकेली थी जिसका फायदा उठाकर पानी पीने के बहाने घर में पहुंच कर आरोपित ने छेडखानी की और विरोध करने पर कपडे भी फाड दिये। शोर मचाने पर लोग जुटने लगे को आरोपित भाग निकला। पीड़िता के पिता की तहरीर पर युवक के खिलाफ दुष्कर्म प्रयास करने का मकदमा कायम कर पुलिस तलाश कर रही है।

बाराती उठा ले गये तीन बकरे

एक अन्य घटना रसुलहा गांव (कपसेठी) में हुई जहां आयी बारात से वापस जाते समय बारातियों ने गुलचन्द्र सोनकर के दरवाजे पर बंधी तीन बकरे अपनी सूमो में लादे और भाग निकले। बकरे लादते समय गांव की एक महिला की नजर पडी लेकिन वह कुछ समझ पाती तब तक सूमो सवार भाग चुके थे। बताया जाता है कि रामधनी कहार के पुत्री की शादी में शुक्रवार को चौरी (भदोही) से शरीक होनेआये बाराती अर्धरात्रि के बाद वापसी में यह हरकत किये।

Related posts