सोनभद्र। राबर्ट्सगंज के भाजपा सांसद छोटेलाल खरवार एक बार फिर से चर्चा में है। इससे पहले डीएम चंदौली के साथ बदसलूकी का वीडियो वायरल हुआ था तो मंगलवार को नगर निकाय चुनाव के नामांकन के अंतिम दिन सांसद आदर्श आचार संहिता की धज्जियां उड़ीं। इस दौरान सांसद न सिर्फ निर्वाचन अधिकारी एवं एडीएम (न्यायिक) कुंवर बहादुर सिंह के बगल में कुर्सी पर बैठे दिखाई दिए, बल्कि उन्हें निर्देश भी देते रहे। यही नहीं दश यह थी कि सत्ता पक्ष के बड़े नेताओं के वाहन भी निर्वाचन कार्यालय में दाखिल हुए। गौरतलब है कि आदर्श आचार संहिता के पालन को लेकर चुनाव आयोग सख्त निर्देश जारी किए है। पुलिस-प्रशासन कड़ाई से पालन कराने के दाबे भी करता है लेकिन सत्ता की हमक के आगे पूरी तरह से नतमस्तक दिखा।
भाजपा प्रत्याशी का नामांकन कराने पहुंचे थे सांसद
मामला राबर्ट्सगंज के भाजपा प्रत्याशी बिंदू जायसवाल का नामांकन से जुड़ा है। सविल लाइंस स्थित होटल से प्रत्याशी के संग जिलाध्यक्ष अशोक मिश्रा, सांसद छोटेलाल खरवार, पूर्व एमएलसी जयप्रकाश चतुवेर्दी, विधायक भूपेश चौबे, रमेश मिश्रा, धर्मवीर तिवारी आदि के साथ लाव लश्कर लेकर नामांकन करने पहुंचे। इस दौरान जमकर नारेबाजी होती रही। इसी बीच सांसद छोटे लाल खरवार सीधे निर्वाचन अधिकारी और वहां मौजूद एआरओ के बीच में कुर्सी पर जाकर बैठ गए। एडीएम और एआरओ भी सांसद से बात करने लगे। सांसद वहीं बैठे बैठे पार्टी के कार्यकतार्ओं को नसीहत भी देते रहे।
एसडीएम ने सफाई, मना करने पर चले गये थे सांसद
सांसद के आरओ के बगल में बैछकर निर्देश देने की फोटो भले ही वायरल हो रही हो लेकिन एडीएम कुंवर बहादुर सिंह सांसद के कुर्सी पर बैठने की बात से साफ पल्ला झाड़ते दिखे। उन्होंने सफाई दी कि सांसद कुर्सी पर बैठे ही नहीं। सांसद उन लोगों के पास आ रहे थे उन्हें मना कर दिया गया जिस पर वह सीढ़ी से उतरकर चले गए। कुछ दिनों पहले चंदौली के नौगढ़ में अपने प्रमुख भाई की कुर्सी बचाने की खातिर भी सांसद ने अधिकारियों को जमकर खरी-खोटी सुनायी थी। वीडियो वायरल हुआ तो मामला तूल पकड़ा जिसके बाद आरोप है कि सांसद बात न मानने वाले अधिकारियों का तबादला कराने की धमकी देने लगे।

admin

No Comments

Leave a Comment