गोरखपुर। सूबे में सत्ता बदल चुकी है और हर तरफ बदलाव की बयार भी बहने लगी है, लेकिन कतिपय राजनीतिज्ञों की मानसिकता अब भी नहीं बदली है, भले ही वह राजनीतिज्ञ बीजेपी का ही क्यों न हो। सीएम योगी आदित्यनाथ की तमाम नसीहतों के बावजूद विधायक अपनी मनमानी में लगे हैं। ज्यादा दूर नहीं, योगी के संसदीय क्षेत्र गोरखपुर की ही बात करें तो रविवार को यहां के बीजेपी विधायक राधा मोहन दास अग्रवाल ने महिला आईपीएस चारू निगम को सरेआम फटकार लगाई। उन्होंने सबके सामने महिला आईपीएस अधिकारी से इस कदर अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया कि आईपीएस का सब्र जवाब दे गया और अपनी बेइज्जती से आहत चारू निगम की आंखों से आंसू बहने लगे।

चारू निगम ने दिया जवाब
विधायक जी की इस बदसलूकी का वीडियो सामने आने के बाद लोगों ने विधायक के इस व्यवहार की आलोचना की और चारू निगम का समर्थन किया। इस वाकये के बाद चारू निगम ने फेसबुक पर एक पोस्ट लिखा है। चारू ने इस पोस्ट में लिखा है कि ‘मेरे आंसुओं को मेरी कमजोरी न समझना, कठोरता से नहीं कोमलता से अश्क झलक गये। महिला अधिकारी हूं, तुम्हारा गुरूर न देख पायेगा, सच्चाई में है जोर इतना अपना रंग दिखलाएगा। इसके अलावा चारू ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि मेरी ट्रेनिंग मुझे कमजोर होना नहीं सिखाती। उन्होंने लिखा कि जब वरिष्ठ अधिकारी ने उनका समर्थन किया तो वह भावुक हो उठी थीं। चारू का यह पोस्ट अब वायरल हो रहा है। लोग विधायक राधा मोहन दास अग्रवाल की इस करतूत की निंदा कर रहे हैं और सीएम योगी से ऐसी करतूतों के लिए कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं।

क्या है मामला
ये पूरा मामला चिलुआताल थाना क्षेत्र के गांव कोइलहवां का है। यहां महिलाओं ने शराब के विरोध में सड़क पर उतरकर जमकर हंगामा किया तो चारू निगम ने मौके पर जाकर रास्ता खुलवाने की कोशिश की। इस दौरान आक्रोशित महिलाओं ने आईपीएस चारू निगम पर हमला किया और पत्थर मारकर आईपीएस चारू निगम को जख्मी कर दिया। इसके बाद स्थिति को काबू करने के लिए कुछ महिलाओं को हिरासत में ले लिया गया। महिलाओं की हिरासत की बात पर भाजपा विधायक ने ग्रामीणों के साथ जाम लगा दिया। फिर से सड़क जाम किए जाने की सूचना पर दूसरे आला अफसरों के साथ आईपीएस चारू निगम मौके पर पहुंची तो भाजपा विधायक उनको भला-बुरा कहने लगे। चारू ने उन्हें समझाने की कोशिश की कि महिलाओं के पत्थर फेंकने और पुलिस पर लाठियां चलाने के बाद स्थिति को काबू करने के लिए उन्होंने कुछ महिलाओं को हिरासत में लिया था लेकिन भाजपा विधायक ने एक ना सुनी और घटिया भाषा का इस्तेमाल आईपीएस के लिए करते रहे, जिससे चारू निगम रोने लगीं। चारू की फैमिली आगरा से ताल्लुक रखती है। दिल्ली डीडीए में जॉब लगने के बाद उनके पिता फैमिली के साथ नई दिल्ली शिफ्ट हो गए थे। चारू की स्कूलिंग भी दिल्ली से ही हुई। चारू ने आईआईटी से बीटेक किया है। उनके पास आराम की नौकरी करने का आॅप्शन था, लेकिन पापा के कहने पर चारू ने पीसीएस की तैयारी शुरू की।

admin

No Comments

Leave a Comment