वाराणसी। अव तक तो पुरानी रंजिश को लेकर छेड़खानी के आरोप लगते थे लेकिन सोमवार को काशी विद्यापीठ ब्लाक में कुछ अलग प्रकरण देखने को मिला। पूर्व महिला बीडीसी सदस्य स्थानीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर परिजनों से मारपीट के मामले में मेडिकल कराने के लिए मंडुवाडीह थाना की महिला कांस्टेबल के साथ पहुंची थी। यहां पर उसने मेडिकल के दौरान वरिष्ठ चिकित्सक पर छेड़खानी का आरोप मढ़ दिया। महिला ने इसकी सूचना बीडीओ को देते हुए हंगामा शुरू कर दिया। इस बीच मंडुवाडीह पुलिस भी मौके पर पहुंच गयी। मामला उस समय राजनैतिक रूप लेने लगा जब पीडित महिला के पक्ष में ब्लाक प्रमुख प्रवेश पटेल व अन्य प्रधान स्वास्थ्य केंद्र पर धरने पर बैठ गये।

मन मुताबिक मेडिकल न होने पर लगाये आरोप

इसी बीच डाक्टर के पक्ष में स्वास्थ्यकर्मियों ने भी लामबंद हो चिकित्सकीय कार्य ठप कर दिया। उनका कहना था कि मन मुताबिक मेडिकल न होने पर इस तरह के आरोप लगाये जा रहे हैं। दशा यही रही तो काम करना मुश्किल हो जायेगा। दूसरी तरफ ब्लाक प्रमुख ने मामले से डीएम को अवगत कराते हुए संबंधित चिकित्सक के स्थानांतरण की मांग की। डीएम के कारवाई के आश्वासन पर धरना समाप्त हो गया। आरोपों के बाबत आरोपित चिकित्सा अधिकारी का कहना था कि महिला हेल्थ विजिटर के समक्ष जांघ पर लगे चोट का निशान स्केल द्वारा नापा हूं। आरोप बिल्कुल निराधार है। मामले की जानकारी मिलने पर प्रभारी सीएमओ डा एके निगम स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे और अधीनस्थों से पूछताछ की। उनका कहना था कि जांच में आरोप सही मिले तभी कार्रवाई की जाएगी।

admin

No Comments

Leave a Comment