वाराणसी। काशी में अमूमन सड़को पर लहराते हुए तेज रफ्तार लक्जरी वाहन जाते हैं तो लोगों का मानना रहता है कि किसी गिरोह से जुड़े लोग जा रहे हैं। पीएम का संसदीय क्षेत्र होने के बावजूद केन्द्र और प्रदेश की सत्ता पर काबिज भाजपा के जनप्रतिनिधियों के ड्राइवर भी कम नहीं है। कुछ ऐसा ही मंजर गुरुवार की देर शाम भेलूपुर में देखने को मिला। यहां पर तेज रफ्तार सफारी जल संस्थान की दीवार से जा टकरायी। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि सफारी के अगले हिस्से के परखचे उड़ गये। कई लोग तो बच गये लेकिन एक वाइक सवार चपेट में आकर गिर गया। मौके पर पुलिस पहुंची तो स्पष्ट हुआ कि सफारी शहर उत्तरी के विधायक रवीन्द्र जायसवाल की है।

वाहन में विधायक नहीं थे मौजूद

बताया जाता है कि गाड़ी में विधायक मौजूद नही थे बल्कि उनका गनर और ड्राइवर था। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि जिस रफ्तार में सफारी लहराते हुए चल रही थी उससे पूरी आशंका है कि ड्राइवर संभवत नशे में था। विधायक का इलाके में एक होटल है और हादसे से पहले सफारी वहीं पर थी। गौरतलब है कि चेतमणी चौराहे से डायवर्जन के चलते सभी तरह के वाहन इसी रास्ते से जाते हैं जिसके चलते खासी भीड़ रहती है। संयोग थी कि लोग दूसरी पटरी की तरफ भाग निकले अन्यथा चपेट में आ सकते थे। ड्रÑाइवर-गनर को अधिक चोटें नहीं आयी थी लेकिन मौके पर पहुंची पुलिस ने उन्हें अस्पताल भेजा।

admin

No Comments

Leave a Comment