वाराणसी। इंस्टीट्यूट आॅफ बैंकिंग पर्सनल सिलेक्शन (आइबीपीएस) के प्रोबेशनरी आॅफिसर (पीओ) की शनिवार को हो रही परीक्षा विवादों के घेरे में रही। कई केंद्रों पर समय से कंप्यूटर न खुलने व सर्वर डाउन होने के चलते सवाल छूटने लगे तो परीक्षार्थियों ने जमकर बवाल किया। ऐसा सिर्फ किसी एक केन्द्र का किस्सा नहीं था बल्कि चितईपुर, रामकटोरा, लेढ़ूपुर और सारनाथ सहित विभिन्न सेंटर पर हाल था। हंगामे की सूचना पर पहुंची पुलिस ने समझा-बुझाकर मामला शांत कराया। परीक्षार्थियों के उग्र विरोध-प्रदर्शन का नतीजा था कि दूसरी और चौथी पाली की परीक्षा कई केंद्रों पर आधे घंटे विलंब से हुई। परीक्षार्थियों के विरोध को देखते हुए संस्था प्रमुख ने परीक्षा आयोजक संस्था को मेल कर तकनीकी गड़बड़ी की सूचना दी। इसके बाद भी छात्रों का आक्रोश शांत नहीं हुआ। सभी दोबारा परीक्षा कराने की मांग कर रहे थे।

13 केन्द्रों पर चार पालियों में थी परीक्षा

काशी गोमती संयुत ग्रामीण बैंक के पीओ की आनलाइन परीक्षा शहर के 13 केंद्रों पर चार पालियों में होने वाली थी। विभिन्न केंद्रों पर लगभग 5200 परीक्षार्थी पंजीकृत थे। इन केंद्रों पर प्रदेश के दूसरे जिलों के अलावा समीपवर्ती प्रांत बिहार, झारखंड से लेकर पश्चिम बंगाल सहित अन्य राज्यों के भी सैकड़ों परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हुए।

नोडल अधिकारी ने उल्टा मढ़ा अरोप

परीक्षा के नोडल अधिकारी काशी गोमती संयुत ग्रामीण बैंक के राजेश श्रीवास्तव ने गड़बड़ी स्वीकार करने के बदले उल्टे तोहमत परीक्षार्थियों पर मढ़ दी। उनका दावा था परीक्षा के दौरान सर्वर की कोई गड़बड़ी नहीं थी। कुछ केंद्रों पर तकनीकी गड़बड़ी की सूचना मिली थी। मौके पर उपस्थित टीसीएस के इंजीनियरों ने इसे तत्काल ठीक कर दिया। कुछ परीक्षार्थियों ने जानबूझ कर परीक्षा को प्रभावित करने का प्रयास किया।

admin

Comments are closed.