बदमाशों ने दौड़ाकर अधेड़ को गोलियों से छलनी किया, बचाने आये युवक को भी लगी गोली जिसके बाद घंटो जाम

मऊ। देवारांचल के मित्तूपुर बन्धे (मधुबन) के पास रविवार की अल सुबह 6 बजे बाइक सवार बदमाशों ने दीपन यादव को दौड़ाकर कई गोलियां मारी जिससे मौके पर ही मौत हो गयी। इस दौरान बचाने हरेन्द्र नामक युवक को भी गोली मार दी गयी जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। हरेन्द्र को उपचार के लिये लोगों ने सीएचसी में भर्ती कराया गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने मृतक का शव लेकर थाने चली आयी और वहां से आनन-फानन में पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया। वारदात से आक्रोशित ग्रामीणों ने थाने के पास मधुबन-बेल्थरा रोड मार्ग जाम कर दिया। जाम के दौरान राहगीरों को मारापीटा गया जिससे मौके पर अफरा-तफरी मची रही। अफसरों के समझाने-बुझाने पर डेढ़ घंटे बाद जाम हटा और आवागमन सुचारू हो सका। मृतक के भाई की तहरीर पर पुलिस ने 6 लोगों के विरूद्ध नामजद मुकदमा दर्ज कर लिया। घटना को लेकर क्षेत्र में तनाव बना हुआ है। घटना का कारण पुरानी रंजिश बतायी जाती है। वहीं नवागत पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य भी घटना स्थल पर पहुंच कर जायजा लिया।

कुुछ यूं रहा घटनाक्रम

मूल रूप से इसी थाना क्षेत्र के नकिहवा देवारा निवासी दीपन यादव (50) दुबारी नई बस्ती में मकान बनवाकर रहता था। रविवार की सुबह वह किसी काम से तिघरा गया था जहां से वापस लौटते समय वह मित्तूपुर बन्धा के रास्ते बाइक से आ रहा था। मित्तूपुर गांव के पास अपने परिचित हरेन्द्र यादव को देख दीपक रुक गया। हरेन्द्र अपनी बीमार मां को सहारा देकर टहला रहा था। दीपन अभी हरिन्द्र से उसकी मां का हालचाल पूछ ही रहा था कि इसी दौरान बाइक से आये दो बदमाशों ने उसको लक्ष्य कर गोली मार दी। एक गोली उसके सिर के पास लगते ही दीपन जान बचाने के लिये बंधे से नीचे भागा लेकिन हमलावरों ने उसे दौड़ा लिया और उसके नजदीक पहुंच कर सिर और सीने में कई गोलियां मार दी जिससे मौके पर ही मौत हो गयी। बदमाशों ने बचाव करने के लिये दौड़े हरेन्द्र को भी गोली मारी जो उसके बायें पैर में जा लगी। गोली लगते ही हरिन्द्र भी गंभीर रूप से घायल होकर गिर पड़ा।

जमकर किया हंगामा और बदसलूकी

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक वारदात को अंजाम देकर हेलमेटधारी हमलावर सोनाडीह की तरफ भाग निकले। आधे घंटे बाद मौके पर पहुंची पुलिस मृतक का शव लेकर मधुबन थाने आ गयी। उधर इसकी जानकारी पाते ही मौके पर सैकड़ों लोगों की भीड़ जुट गयी। परिजनों, रिश्तेदारों और गांव वासियों का हुजूम मधुबन थाने पहुंच गया जो मृतक का शव सौंपने की मांग कर रहा था। पुलिस ने सख्ती बरतते हुये इंकार कर दिया और शव को पोस्टमार्टम के लिये सदर अस्पताल भेज दिया। वारदात और पुलिस के द्वारा मृतक का शव न देने से नाराज ग्रामीणों ने सुबह 9 बजे थाने के गेट के सामने मधुबन-बेल्थरा रोड मार्ग जाम कर दिया। दोनों तरफ वाहनों की लम्बी कतारें लग गयी। इस दौरान उधर से गुजरने का प्रयास कर रहे राहगीरों से जाम करने वालों ने बदसलूकी भी की जिससे अफरा-तफरी मची रही।

संगीन मामलों का आरोपित था मृतक

मृतक दीपन यादव के विरूद्ध मधुबन थाने में बलवा, हत्या और हत्या के प्रयास, आबकारी एक्ट तथा आर्म्स एक्ट के तहत 8 मुकदमे दर्ज हैं। पुलिस रिकार्ड में 2013 में दीपन के विरूद्ध बलवा और हत्या, वर्ष 2002 में बलवा और हत्या, वर्ष 2015 में हत्या के प्रयास के साथ ही हत्या और हत्या के प्रयास, आबकारी एक्ट तथा आर्म्स एक्ट और गैंगेस्टर के तहत मुकदमे दर्ज हैं। नवागत पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य का कहना है कि तहरीर के आधार पर हत्यारोपियों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। हत्यारों को बहुत जल्द गिरफ्तार कर लिया जायेगा। प्रथम दृष्टया घटना का कारण आपसी रंजिश का लगता है। पुलिस की विवेचना में वास्तविकता सामने आ जायेगी।

Related posts