चढ़ा अपराध का पारा: कोई दिन नहीं रहा छूट जब न हो हत्या या लूट, अपराधी बेलगाम और कप्तान का यह ‘फरमान’

चन्दौली। बिहार की सीमा से सटा होने और नक्सली हिंसा से प्रभावित होने के बावजूद जनपद में क्राइम कंट्रोल था। निर्वतमान कप्तान संतोष सिंह के जाने के साथ अपराधियो के हौसले इस कदर बुलंद हो गये हैं कि वह दिन नही बल्कि घंटों के अंतराल पर वारदात को अंजाम दे रहे हैं। वह भी छिनौती या चोरी नहीं बल्कि हत्या और लूट सरीखी घटनाएं हो रही है। शनिवार की रात बर्तन व्यवसायी महेन्द्र रस्तोगी के साथ डेढ़ावल चौकी से कुछ दूरी पर बदमाशों ने तमंचे की नोंक पर लूटने की कोशिश की। विरोध करने पर बदमाशों ने व्यापारी को गोली मार दी। खास यह कि बदमाश अपनी आल्ट्रो कार तो छोड़ गये लेकिन घायल व्यापारी की ब्रेजा कार व नकदी-मोबाइल लूट कर फरार हो गए। इसके अलावा जमीन के विवाद में एक वृद्ध को लाठियों से पीट कर मौत के घाट उतार दिया गया।

तकादा कर लौट रहा था व्यवसायी

सकलडीहा कोतवाली के डेढावल चौकी के चंद कदम की दूरी पर तकादा कर वापस लौट रहे व्यवसायी महेन्द्र रस्तोगी को आल्टो सवार बदमाशों ने ओवरटेक कर रोका था। इसके बाद व्यापारी ने विरोध किया तो बदमाशों ने गोली मार उसका बैग व मोबाइल छीन लिया। सूचना मिलने पर पहुंची सकलडीहा पुलिस ने घायल को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया जहांं हालत चिंताजनक होने पर ट्रामा सेंटर बीएचयू रेफर कर दिया गया। सीओ सकलडीहा प्रदीप चंंदेल के मुताबिक घटना की रिपोर्ट दर्ज कर बदमाशों की धर-पकड़ के लिए चार टीमें गठित की गयी हैं जिसमें एक का नेतृत्व वह खुद कर रहे हैं।

वृद्ध को लाठियों से पीटकर मार डाला

कोतवाली चंदौली के बिसौरी गांव में रविवार को भूमि विवाद में भोला यादव (55) को दूसरे पक्ष के लोगों ने लाठियों से इस तरह पीटा कि बीएचयू ट्रामा सेंटर में इलाज के दौरान सांस थम गयी। आरोप है कि एक साल पहले जेल गये आरोपित ने छूटने के बाद साथियों के संग मिलकर वारदात को को अंजाम दिया। रामश्रय यादव तहरीर दी है कि जमीनी विवाद को लेकर मनोज यादव, बब्बू यादव, हृदय यादव और विक्की यादव लाठी-डंडे से लैस होकर उसके पिता पर टूट पड़े जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए। इलाज के दौरान उनकी मौत हो गयी। दूसरी तरफ कप्तान अधीनस्थों को फुट पेट्रोलिंग पर जोर देने को कह ही नहीं रहे बल्कि खुद भी यही कर रहे हैं।

Related posts