‘वीडियो कालिंग’ से शुरू हुई प्रेम कहानी का अंत मां-बेटी की हत्या से हुआ, आरोपित को गिरफ्तार कर पुलिस ने किया खुलासा

आजमगढ़। एक ही रात किशोरी के साथ उसकी मां की हत्या के मामले से समूचे जनपद में सनसनी फैल गयी थी। लाश दो जनपदों में फेंकी गयी थी लिहाजा पुलिस भी संयुक्त रूप से कातिल की तलाश तलाश कर रही थी। सर्विलांस की जांच से जो सबूत मिले वह खासे चौंकाने वाले थे। इसके आधार पर पुलिस ने संदेह के दायरे में आने वाले शुभम विश्वकर्मा को गिरफ्तार कर कड़ाई से पूछताछ की तो उसने सच कबूल किया। एक वीडियो कालिंग से शुरू हुई प्रेम कहानी का अंजाम इतना भयानक होगा किसी ने सोचा नहीं था। दरअसल प्रेमिका की बेवफाई और उनकी मां की धमकी ने प्रेमी को दोनों का कातिल बना दिया। नाराज प्रेमी ने एक ही रात में मां बेटी को मौत के घाट उतार दिया।

पिता ने घर भेजा था बात कराने के लिए लिए

एसपी प्रो. त्रिवेणी सिंह के मुताबिक ढ़ाखा गांव (मेहनाजपुर) निवासी नेशान रोजी-रोटी के लिए खाड़ी देश रहता है। उसकी पत्नी नूरीन अपनी पुत्री गजाला व चार अन्य बच्चों के साथ घर पर रहती थी। साल भर पहले नेशान ने गांव के ही शुभम विश्वकर्मा को फोन किया और कहा कि मेरे घर जाकर पत्नी से वीडियो कालिंग पर बात करा दो। इसके बाद शुभम उसके घर आने-जाने लगा और गजाला से उसे प्रेम हो गया। महीनों तक दोनों गांव के बाहर नहर की पुलिया पर मिलने लगे। कुछ दिन बाद लड़की किसी और से बात करने लगी तो शुभम ने विरोध किया। इसके बाद गजाला ने उससे मिलने से मना कर दिया। इसी दौरान यह बात उसकी मां को पता चल गयी। इसके बाद नूरीन ने बेटी पर पहरा लगया दिया। रात में वह पुत्री को ताले में बंद खुद दरवाजे पर सोती थी।

हत्या की बात सुनते भाग निकले साथी

वारदात की रात गजाला से मिलने के लिए ही शुभम उसके घर गया था लेकिनवह ताले में बंद थी और मां दरवाजे पर सोई थी। शुभम ने जब नूरीन से गजाला को मिलाने की जिद की तो उसने गांव वालों को बताने तथा अपने भाइयों से कहकर पिटवाने की धमकी दे दी। उसने शोर मचाने का प्रयास किया तो शिवम ने नूरीन का मुंह दबाकर चुप कराने का प्रयास किया जिससे वह बेहोश हो गयी। इसके बाद शुभम ने नूरीन को कंधे पर उठाया और पास के धान के खेत में ले जाकर गला घोंटकर हत्या कर दी। फिर वह उसके घर लौटा और नूरीन की चारपाई पर तकिये के नीचे रखी चाभी निकालकर ताला खोल गजाला को बाहर निकाला। आरोपी के मुताबिक जब उसने पुछा मेरी मम्मी कहा है तो शिवम ने कहा कि बगल के कमरे में सो रही है। इसके बाद वह उसे 500 मीटर की दूरी पर स्थित सादात (गाजीपुर) के मल्हौरा स्कूल के पास ले गया। उसको वहीं छोड़ वह अपने दोस्त टोनी उर्फ अमीत यादव व आशीष के साथ घर गया और उनके साथ वापस लौट गजाला से उनका परिचय कराया। उसी समय गजाला ने फिर अपनी मां के बारे में पूछा। जब शुभम ने बताया कि गलती से उनकी हत्या हो गयी तो उसके दोनों दोस्त भाग गए। बात खुले ने इस डर से उसने गजाला को पानी में गिराकर मार डाला।

Related posts