वाराणसी। जनवरी का तीसरा सप्ताह शुरू हो चुका है। ठंड का असर भी कुछ कम होने लगा है। मौनी अमावस्या के चलते मंगलवार को स्कूलों में अवकाश घोषित किया गया था। बावजूद इसके कबीरचौरा स्थित प्राथमिक एवं पूर्व माध्यमिक विद्यालय में बच्चों का जुटान सुबह से शुरू हो गया था। लक्जरी वाहनों का काफिला रुका तो स्पष्ट हुआ कि प्रदेश के विधि, न्याय, सूचना, खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री डा. नीलकंठ तिवारी बच्चों को स्वेटर वितरण करने के लिए पहुंचे हैं। राज्यमंत्री ने शिक्षा के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि सरकार की प्राथमिकता है कि बच्चे स्कूल जाय और शिक्षा ग्रहण कर आत्मनिर्भर बने। जल्द ही लोग घर-घर जाकर अभिभावको को प्रेरित कर उनके बच्चों का दाखिला विद्यालयों में कराये जाने का कार्य करेगें। उन्होने विशेष रूप से जोर देते हुए कहॉ कि शिक्षा प्रत्येक बच्चे का मौलिक अधिकार है और उसके इस अधिकार से उसे किसी भी दशा में वंचित नही रहने दिया जायेगा।

आदर्श विद्यालय बनाने का लिया संकल्प

राज्यमंत्री कक्षा 1 से 8 तक के 125 बच्चों को नि:शुल्क स्वेटर एवं टोपी वितरित करने के बाद मीडिया से अनौपचारिक वार्ता में कहे, शहर दक्षिणी स्थित 22 प्राथमिक विद्यालयों में आवश्यक एवं मुलभूत बुनियादी सुविधायें मुहैया कराकर आदर्श विद्यालय बनाया जायेगा। उन्होने प्राथमिक एवं पूर्व माध्यमिक विद्यालय कबीरचौरा में बच्चो को पढ़ाई के साथ-साथ खेल के संसाधन भी मुहैया कराये जाने पर जोर दिया। इस दौरान विद्यालय परिसर के निरीक्षण के दौरान उन्होने निमार्णाधीन शौचालय का निर्माण कार्य शीघ्र पूरा कराये जाने का भी निर्देश दिया। मंत्री के हाथो स्वेटर और टोपी पाते बच्चो के चेहरे खिल उठे और बोल पड़े थैक्यू मंत्री अंकल। इस अवसर पर अशोक धवन, मंत्री के प्रतिनिधि आलोक श्रीवास्तव, प्रभात सिंह सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

admin

No Comments

Leave a Comment