काशी में पहली बार तीन दिवसीय शिवरात्रि समारोह की शुरूआत, गंगा तट पर होंगे विविध आयोजन

वाराणसी। गंगा तट पर अब तक तो शासन की तरफ से सिर्फ गंगा महोत्सव का कार्यक्रम होता था लेकिन इस साल से एक और बड़ा आयोजन होने जा रहा है। पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट विश्वनाथ कॉरिडोर के आरम्भ होने के बाद 20 से 22 फरवरी तक राजघाट पर पहली बार तीन दिवसीय महाशिवरात्रि महोत्सव होगा। कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने सोमवार को कमिश्नरी आॅडिटोरियम में मीडिया से वार्ता के दौरान इसका ब्योरा दिया। उनका कहा था कि वाराणसी में वैसे तो बहुत ऐतिहासिक कार्य हुए हैं अथवा हो रहे हैं। इसी क्रम में इस बार महाशिवरात्रि पर्व के दौरान आने वाले श्रद्धालुओं एवं पर्यटकों को वाराणसी की सांस्कृतिक विरासत से परिचित कराने के उद्देश्य से तीन दिवसीय महाशिवरात्रि महोत्सव मनाया जाएगा। इस महोत्सव में विशेष रूप से भगवान शिव पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम कराए जाएंगे। जिससे यहां आने वाले श्रद्धालु सांध्य कालीन कार्यक्रमों का आनंद उठा सकें।

कत्थक-भजन के साथ कवि सम्मेलन

कमिश्नर ने बताया कि महोत्सव में प्रथम दिन भगवान शिव पर आधारित कत्थक एवं गायन के साथ अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन विख्यात कवि सुनील जोगी के नेतृत्व में कराया जा रहा है। इस कवि सम्मेलन में मदन मोहन समर, डॉ सुरेश अवस्थी, डॉ विष्णु सक्सेना, डॉ राजेश चेतन, हेमंत पांडे, जगबीर राठी, सुश्री गौरी मिश्रा अलावा दमदार बनारसी एवं सांड बनारसी रहेंगे। जबकि महाशिवरात्रि महोत्सव के द्वितीय दिवस पर कत्थक एवं भजन के साथ-साथ तृप्ति शाक्या एवं प्रेम प्रकाश दुबे के द्वारा भजन की प्रस्तुति की जाएगी। तृतीय दिवस पर प्रख्यात भजन गायक अग्निहोत्री बंधुओं के साथ-साथ सुखदेव मिश्र वादन में एवं गणेश मिश्र द्वारा गायन की प्रस्तुति की जाएगी।

बोट फेस्टिवल के हर प्रतिभागी को इनाम

समापन में राजघाट पर बोट फेस्टिवल का आयोजन विभिन्न प्रायोजकों के साथ किया जा रहा है। इसके तहत 23 फरवरी की सुबह 9 बजे हस्त 40 नौकाओं की एक रेस रविदास घाट से प्रारंभ होगी जिसका समापन राजेंद्र प्रसाद घाट पर किया जाएगा। बोट रेस हेतु कुल 25 प्रतिभागियों द्वारा प्रतिभाग की सूचना अब तक प्राप्त हो चुकी है। प्रथम पुरस्कार के रूप में 25 हजार, द्वितीय पुरस्कार 15 हजार तथा तृतीय पुरस्कार 10 हजार के साथ-साथ सांत्वना पुरस्कार के रूप में प्रत्येक प्रतिभागी दल को दो हजार की धनराशि दी जाएगी। उन्होंने बताया कि 23 फरवरी की दोपहर साढ़े 12 बजे वोट्स का मार्च पास्ट आयोजित किया गया है। जिसमें लगभग 25 हैंड पेंटेड नाव तथा पांच सजे हुए बजड़े राजेंद्र प्रसाद घाट के सामने से गुजरेंगे। इन बजङो के माध्यम से उपस्थित जनसमूह को बनारस की संस्कृति से परिचित कराया जाएगा। वोट फेस्टिवल के अंतर्गत राजघाट पर अपराहन 3 से 5 बजे के मध्य बजड़े पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया जाएगा। उक्त कार्यक्रम का आनंद लगभग 20 बजड़े पर 700 दर्शक उठा सकेगे।

Related posts