वाराणसी। इन दिनों छेड़खानी और दुष्कर्म के फर्जी मामले में फंसाने के आरोप लगते हैं लेकिन जंसा थाने में ऐसा मामला आया जिससे पुलिस भी हैरत में रह गी। मारपीट कर मोबाइल और नकदी लूटे जाने के मामले की जांच की गयी तो स्पष्ट हुआ कि शिकायतकर्ता ने छात्राओं के संग छेड़खानी की थी जिस पर घरवालों ने पिटाई की थी। बहरहाल पुलिस ने कड़ी चेतावनी देकर मामला रफा-दफा करा दिया। जंसा प्रभारी निरीक्षक हेमन्त सिंह ने स्वीकार किया लूट की झूठी तहरीर दी गयी थी जबकि मामला दूसरे विवाद का था।

कई दिनों तक बर्दाश्त कर छात्राओं ने की थी शिकायत

थाने पर लूट की तहरीर मिलने पर पुलिस ने मामले की पड़ताल की तो चौंकाने वाली जानकारी मिली। वाराणसी से कोरौती भाउपुर के लिए एक बस चलती है जिससे तिवारीपुर गांव की लड़किया कालेज आती जाती है। आरोप है कि बस कंडेक्टर सूरज कई दिनों से लड़कियो के साथ आये दिन छेड़खानी व अभद्र व्यवहार करता रहता था। सब्र का बांध टूटने पर मामले की जानकारी छात्राओ ने अपने अपने अभिभावको को दी। शनिवार की शाम कई भड़के अभिभावको ने तिवारीपुर बस स्टैंड पर पहुच कर कंडेक्टर को उलाहना दिया तो वह विवाद करने लगा। इसी बात को लेकर गुस्साए अभिभावको ने कंडेक्टर की पिटाई कर दी। कंडेक्टर ने रविवार को जंसा थाने पर पहुचकर लूट की तहरीर देकर कार्यवाई की मांग की थी।

admin

No Comments

Leave a Comment