खत्म हुआ ‘लुकाछिपी’ का खेल तो कुख्यात झुन्ना पंडित ने रिमांड पर खोले ‘राज’, दो पिस्तौल बरामद कर पुलिस दाखिल की जेल

वाराणसी। एक लाख का इनामिया रह चुके कुख्यात अपराधी श्रीप्रकाश मिश्रा उर्फ झुन्ना पंडित ने जिला पुलिस को काफी दिनों तक छकाया। दिव्यांग की हत्या के मामले में शिकंजा कसता देख झुन्ना फरार तो हुआ लेकिन पंजाब पुलिस के साथ ‘मुठभेड़’ में गिरफ्तारी के बाद महीनों तक आने से कतराता रहा। एसएसपी के रूप में प्रभाकर चौधरी के कार्यभार ग्रहण करने के बाद धुन्ना का न सिर्फ आगमन हुआ बल्कि संगीन मामलों में पूछताछ के लिए पुलिस रिमांड हासिल हुई। शुक्रवार को रिमांड पर लेने के बाद पुलिस ने कैंट थाने में लगभग नौ घंटे पूछताछ की।

यहां छिपा रखी थी दो पिस्तौलें

पुलिस ने झुन्ना के निशानदेही पर ऐढे हैलीपैड के पास से दो पिस्टल व चार कारतूस बरामद किया। इंस्पेक्टर सारनाथ विजय बहादुर सिंह ने बताया कि कुख्यात अपराधी श्रीप्रकाश मिश्रा उर्फ झुन्ना पंडित कृषणा नगर कालोनी (पहाड़िया) निवासी पाइप व्यवसायी धर्मेन्द्र गुप्ता के हत्या में शामिल था लेकिन पूछताछ में उसने हत्या की बात नहीं काबूली। अलबत्ता झुन्ना ने यह जरूर स्वीकार किया कि पाइप व्यवसायी की हत्या में उसका असलहा इस्तेमाल हुआ था। इसके बाद झुन्ना की निशानदेही पर ऐढे हैलीपैड के पास से एक 30 एमएम का पिस्टल व दो जिंदा कारतूस व एक .32 एमएम की पिस्टल व दो जिंदा कारतूस बरामद किया।

Related posts