ग़ाज़ीपुर। आंगनवाड़ी केंद्र के शौचालय के मरम्मत में हुआ घोटाले का मामला प्रकाश में आया है। सूचना के अधिकार के तहत हुए इस खुलासे में सामने आया है कि सरकारी योजना के नाम परग्राम प्रधान और जिला पंचायत विभाग पैसों का खुलेआम बंदरबाट कर रहे हैं। पूरा मामला जुड़ा है रेवतीपुर ब्लाक के गौरा गाँव का जहां आंगनवाड़ी केन्द्र के छात्रों के लिए बने शौचालय मरम्मत के नाम पर 59 हजार का भुगतान किया गया और वह शौचालय आज भी अधूरा पड़ा है। खबर सामने आने के बाद हड़कंप मचा हुआ है। आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी चल रही है।

खंडहर बना हुआ है शौचालय

बीते वित्तीय 2016-17 वर्ष में राजवित्त / चौदहवां वित्त आयोग के जरिए आंगनवाड़ी केंद्र के शौचालय मरम्मत के नाम पर 59 हजार रुपया अवमुक्त हुआ था। लेकिन ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत अधिकारी ने सिर्फ कागजों पर ही शौचालय की मरम्मत कार्य कागजो में दिखा पैसे का बंदरबाट कर लिया। इस बात का खुलासा गांव के ही युवक अश्वनी राय के द्वारा के एक आरटीआई से मांगे गए जवाब में मिला है जिसमे आंगनवाड़ी के शौचालय के लिए 59000 रुपया का भुगतान दिखाया गया है। गौरा गाँव के आश्वनी राय ने जन सूचना अधिकार के तहत बीते वर्ष दिसम्बर माह में गाँव के आंगनबाडी केन्द्र के शौचालय के मरम्मत में हुये खर्च का व्यौरा मांगा था। विभागीय लोगों के द्वारा कई बार आना कानी के बाद 13 जुलाई को उनके द्वारा मांगी गई सूचना उपलब्ध हुई तो पैरो तले जमीन खिसक गई ,वहीं संम्बन्धित लोगों में इसको लेकर पूरी तरह से हडकंप मच गया है।

डीएम से कार्रवाई की मांग

इसके बाद आरटीआई कार्यकर्ता आश्वनी राय ने इसमें लिप्त लोगों के खिलाफ कार्यवाही व धनराशि की रिकवरी के लिए जिलाधिकारी को एक पत्र सौंपा है ।इस बात की जब पड़ताल वही की आंगनवाड़ी गीता राय ने बताया कि आंगनवाड़ी केंद्र में पूर्व के प्रधान के द्वारा शौचालय का गड्ढा बना व दरवाजा लगा कर छोड़ दिया गया और वर्तमान प्रधान के द्वारा शौचालय का मरम्मत कागज में कराया गया। आरटीआई कार्यकर्ता अश्वनी राय व ग्रामीणों ने बताया कि जब भारत सरकार लोगो को शौचालय बनाने के लिए 12 हजार दे रही है तो इस शौचालय के मरम्मत के लिए 59 हजार क्यो। कही ना कहीं इसमे विभाग की मिलीभगत है।इस पूरे प्रकरण पर जिलाधिकारी ने बताया कि मामला काफी गंम्भीर है इस बात की जानकारी जिला कार्यक्रम अधिकारी से लेकर इसकी जांचटेक्निकल टीम के द्वारा करा आगे की कारवाई की जाएगी।बताया कि जांचोपरांत इसमें जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कडी कार्यवाही करने के साथ ही धन की रिकवरी कराई जायेगी ।

admin

No Comments

Leave a Comment