वाराणसी। प्रभारी क्राइम ब्रांच विक्रम सिंह को सूचना मिली थी कि कुछ बदमाश बनियापुर के पास किसी आदमी की हत्या की नीयत से जुटे हैं। इस पर भोर में टीम के साथ वह बनियापुर पुलिया के पास पहुंचे तभी फायरिंग करते हुए संदिग्ध भागने लगे। घेराबंदी कर पुलिस ने दो बदमाशों को पकड़ लिया जबकि चार अन्य बदमाश भागने में सफल रहे। गिरफ्तार बदमाशों के पास से चार पिस्टल-रिवाल्वर और चार तमंचों के साथ भारी मात्रा में कारतूस बरामद हुआ। पकड़े गये कल्लू व बीरू तिवारी ने पुलिस के सामने जो कुछ बयां किया उससे होश फाख्ता हो गये। एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह ने शुक्रवार को बदमाशों को मीडिया के सामने पेश करते हुए बताया मौके से फरार होने वालों में खुद को अधिवक्ता बताने वाला अभिषेक सिंह उर्फ प्रिंस, सादिक, इमरान और जावेद खां हैं।

1204

लेन-देन के विवाद में करायी थी हत्या

पूछताछ में बीरू तिवारी उर्फ विरेन्द्र तिवारी ने बताया कि पिछले साल अभिषेक सिंह उर्फ प्रिंस के घर जो पिंकू अंसारी की हत्या हुई थी उसमें मैं अपने साथियों के साथ शामिल रहा हूं। पिंकू अन्सारी की हत्या बिहार से असलहा लाकर बेचने व पैसे की लेन-देन को लेकर हुए विवाद में हो गया था। मुंगेर से 13 हजार रुपए में खरीद कर यहां 25 से 300 हजार रुपए में बेचते है। प्रिंस के लिए यह काम हम लोग काफी दिनों से कर रहे है। गौरतलब है कि प्रिंस ने वारदात के बाद इस मामले में अपने विरोधियों अभिषेक हनी तथा विवेक सिंह कट्टा के खिलाफ नामजद मुकदमा कायम करा दिया था। बाद में पिंकू के पिता ने प्रिंस पर हत्या का आरोप लगाते हुए तहरीर दी थी लेकिन पुलिस ने सीधे रपट नहीं दर्ज की थी। पूछताछ के बाद अभियुक्तों द्वारा बताये गये अन्य घटनाओं व पिंकू अन्सारी के हत्या के तथ्यों के संबन्ध में जांच की जा रही है।

विरोधी की हत्या के लिए जुटे थे बदमाश

गिरफ्तार बदमाशों ने कबूल किया कि हमलोग बिहार से अवैध शस्त्र लाकर बेचने के संग सादिक व प्रिंस गैंग के लिए भाड़े पर हत्या भी करते है। अभिषेक सिंह उर्फ प्रिंस एक राजभर की जमीन सट्टा कराये है जिसको लेकर बनियापुर रजनहिया के बिहारी यादव उर्फ भोली यादव से विवाद चल रहा है जो बस चलाता है और सुबह करीब 6 बजे अपने घर से निकलकर कैंट जाता है। प्रिंस के कहने पर उसी की हत्या करने के लिए हम दोनो तथा सादिक, अभिषेक, इमरान व जावेद यहां पर एकत्र हुए थे। इससे पहले हम सभी लोग 12 मई को भी सुबह यही इंतजार कर रहे थे परन्तु बिहारी यादव घर से नही निकला। तब हम लोग यहां से चले गये थे।

admin

No Comments

Leave a Comment