चंदौली। खाकी लेकर लोगों के जेहन में नाकारात्मक छवि रहती है। वह भी ट्रेन में चलने वाली जीआरपी और आरपीएफ को लेकर लोग मानते हैं कि उगाही को छोड़ यह कुछ नहीं करते हैं। जीआरपी मुगलसराय ने इससे अलग हट कर कुछ दूसरा ही उदाहरण पेश किया है। यहां सफर के दौरान एक शख्स अपना बैग रेलवे जंक्शन पर छोड़ गया था जिसे रूटीन जांच में जीआरपी ने लावारिस हालत में देखा तो थाने ले आई । बैग में मौजूद आईडी के आधार पर पैसेंजर को सूचना देकर के बुलाया मय जेवरात व नकदी पैसेंजर को समान समेत बैग लौटा दिया ।

लाखों का सामान था बैग में

कोटवा नारायणपुर (बलिया) निवासी निखिल मिश्रा अपनी बहन के यहां पहुंचने के लिए झारखंड संपर्क क्रांति से झारखंड की यात्रा कर रहे थे। इस दौरान मुगलसराय के रेलवे प्लेटफॉर्म पर उनका बैग छूट गया था। बैग में उसके ज्वेलरी व कपड़े समेत करीब सात लाख का सामान मौजूद था जिसके छूट जाने के बाद यात्री काफी परेशान था और उसकी तलाश में भटक रहा था। मुगलसराय जीआरपी ने बैग को लावारिस समझ कर पहले थाने लाये उसके बाद बैग में मिले पहचान पत्र के आधार पर यात्री का पता लगाकर उसके सामान को सुपुर्द कर दिया।

admin

No Comments

Leave a Comment