चंदौली। चुनावी माहौल में कहीं पर दावत की सूचना मिलने के साथ पुलिस सक्रिय हो जाती है। फौरन छापेमारी कर कार्रवाई का ग्राफ बढ़ाया जाता है। कभी-कभार दांव उल्टा पड़ जाता है जैसा नगर की एक वाटिका में आयोजित कार्यक्रम के दौरान हुआ। सूचना सटीक थी, मौके पर दर्जनों लक्जरी वाहनों की मौजूदगी के अलावा भोजन का प्रबंध भी था। बावजूद इसके सत्ताधारी दल की विधायक खुद शिकरत कर रही थी लिहाजा पुलिस की दशा सां-छछूंदर सरीखी हो गयी। वीडियोग्राफी के कोरम के साथ फौरन की मामले को क्लीनचिट दे दी गयी। इंस्पेक्टर का कहना था कि भाजपा विधायक साधना सिंह पार्टी प्रत्याशी और कार्यकर्ता के संग बैठक कर रही थी।
पुलिस के आने पर कुछ देर रही अफरा-तफरी
बताया जाता है कि किसी ने पुलिस को फोन कर जानकारी दी थी कि वाटिका में चुनावी पार्टी कर वोटरों को साधने की जुगत चल रही है। काल करने वाले ने पार्टी का नाम जाहिर नहीं किया था जिससे फोर्स भी फौरन पहुंच गयी। इंस्पेक्टर के संग भारी संख्या में फोर्स देखते ही वहां खलबली मच गयी। बड़ी संख्या में लोग अपने वाहनों को छोड़ वहां खिसक लिेये। बताया जाता है कि की ऐसे भी पार्टी में मौजूद थे जिनका दामन ‘पाकसाफ’ नहीं था जिससे उन्होंने हटने में भलाई समझी। मुगलसराय विधायक साधना सिंह और भाजपा प्रत्याशी रवीन्द्रनाथ की मौजूदगी से पुलिस के तेवर ढीले पड़ गये। पुलिस ने रूटीन ड्रिल के तहत तलाशी का कोरम पूरा किया और वहां से चलते बनी।

admin

No Comments

Leave a Comment