भदोही। जेल से कोर्ट में पेशी की खातिर लाया गया शिव प्रकाश दूबे पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया था। इस मामले में दो सिपाहीयों सहित तीन लोगों को जेल भी हुई थी। घटनाक्रम के चलते पुलिस की काफी किरकिरी हुई थी व मामला काफी चर्चित रहा। शिव प्रकाश दूबे की गिरफ्तारी की खातिर 2010 से ही काफी प्रयास किया गया,किन्तु पुलिस को कोई भी सार्थक सफलता हाथ नही लगी। इनाम की राशि बढ़ते हुए 25 हजार पहुंच गयी थी। शिव प्रकाश दूबे अपने रिश्तेदारों समेत सभी परिचितों से कट गया था और मोबाइल से किसी से सम्पर्क नहीं करता था। एसपी भदोही सचिन्द्र पटेल ने इनामियों के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान के तहत गिरफ्तारी का टास्क क्राइम ब्रांच प्रभारी अजय सिंह को सौंपा था जिन्होंने टीम के साथ छापेमारी में शिव प्रकाश को धर-दबोचा। सोमवार को गिरफ्तार आरोपित को मीडिया के सामने पेश करते हुए एसपी ने बताया कि पुलिस फरारी के दौरान शरण देने वालों को चिह्नित कर उनके खिलाफ कार्रवाई करेगी।
सजा होने के डर से हुआ था फरार
गिरफ्तार के बाद शिव प्रकाश ने पूछताछ के दौरान बताया की मेरे ऊपर पत्नी प्रीति की हत्या का मुकदमा था और मै जेल मे बन्द था। जेल मे मंै काफी परेशान व तनाव मे रहता था । सजा होने के डर से मै न्यायालय से पेशी के दिन फरार हो गया। कई सालों तक छिप-छिपा कर अपना नाम-पता बदलते हुये मुम्बई मे रह रहा था। पकङे जाने के डर से मैं अपने घर परिवार वालो से कभी सम्पर्क भी नहीं किया और ना ही किसी मोबाईल का प्रयोग किया। सोमवार को किसी काम से मैं औराई आया किन्तु पकङा गया।

admin

No Comments

Leave a Comment