‘इंजेक्शन’ लगते ही चली गयी बच्चे की जान, परिजनों के कोहराम संग कार्रवाई की मांग को लेकर लगा जाम

बलिया। शिवपुर (सुखपुरा) में गुरुवार को एक 5 साल के बच्चे का इलाज के दौरान मौत गयी। सूचना मिलते ही खबर मिलते ही परिजनों सहित सैकड़ों की संख्या में ग्रामीणों ने दवाखाना के सामने डाक्टर पर कार्यवाही करने की मांग को लेकर हंगामा किया । खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गयी। महिलाओं के हंगामे को लेकर पुलिस बच्चे के शव को कब्जे में नहीं ले पायी। काफी समझाने के बाद पुलिस देर शाम तक शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया ।

कुछ इस तरह रहा समूचा घटनाक्रम

बताया जाता हैं कि ग्राम पंचायत अपायल के भाभो गांव निवासी उमेश चौहान के पुत्र गौरव (5 साल) के पैरों में घाव हुआ था। उसे इलाज के लिए शिवपुर में बुधवार को साय 3 बजे के करीब प्राइवेट चिकित्सक के पास लेकर गए । मृतक के पिता के अनुसार चिकित्स ने बच्चे को देखने के साथ ही उसको कोई इंजेक्शन लगाया। सुई लगते ही लड़का बेहोश होकर गिर पड़ा तथा उसके मुख से झाग आने लगा। उसके बाद डॉक्टर साहब अपने मोटरसाइकिल से मुझे व मेरे लड़के को बैठाकर बलिया के लिए तत्काल निकल गये। रास्ते मे हनुमानगंज में भी किसी को दिखाया जहां उन्होंने भी बलिया ले जाने की बात कही। जिलाचिकित्सालय में डॉक्टरों ने मेरे बेटे को देखते ही मृत घोषित कर दिया।

पिता को शव से साथ भेज हुए फरार

उमेश चौहान का कहना था कि इसके बाद डाक्टर साहब मुझे एक टेम्पो पर बैठाकर गांव के लिए यह कहकर भेज दिया कि मैं पीछे से आ रहा हूं लेकिन वे नही आये। काफी देर तक प्रतीक्षा के बाद ग्रामीणों के सब्र का बांध टूट गया। हंगामे को पुलिस ने उचित कार्यवाही करने का आश्वासन देकर समाप्त गया और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। विरोध-प्रदर्शन संग बवाल की सूचना पर सीओ अरुण कुमार सिंह, थानाध्यक्ष वीरेंद्र कुमार यादव, यशवंत सिंह आदि पूरे समय जमे रहे।

Related posts