बलिया। दूसरी सरकारे इलाज का ढिंढोरा पीटती हैं लेकिन भारत सरकार ने 2017 में ऐसी स्वास्थ्य नीति बनाई है जिसमें रोगियों के सुगमता व सरलता के साथ इलाज की तो व्यवस्था की ही गयी है तथा नीति में ऐसी व्यवस्था की गई है कि लोग बीमार ही ना हों(निरोग रहें) इसके लिए पहले से ही बंदोबस्त किया गया है। निरोगी काया बनाए रखने के लिए नीति में विशेष व्यवस्था की गयी है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जे पी नड्डा ने शनिवार को कहा कि देश में डेढ़ लाख सब सेंटर हैं इन्हें 2022 तक निरोगी केंद्र ( वेलनेस सेंटर) के रूप में रूप में परिवर्तित किया जाएगा । इन वेलनेस केन्द्रो पर 12 प्रमुख रोगों का इलाज मुफ्त मे किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हम ऐसी व्यवस्था देने जा रहे हैं कि 30 साल की उम्र में ही लोगों की मुफ्त में सारी जांचें करा लेंगे और उन्हें कोई रोग होने वाला होगा तो उसकी जानकारी पहले से ही हो जाएगी और उसका पहले से ही इलाज सुनिश्चित करा लिया जाएगा। कहा कि बड़ी मात्रा में हम सब सेंटर को वेलनेस सेंटर के रूप में परिवर्तित करने जा रहे हैं।

1271

आयुष्मान भारत में 50 करोड़ लोगों का पांच लाख की बीमा

केन्द्रीय मंत्री का कहना थ कि आयुष्मान भारत के तहत 50 करोड़ गरीब लोगों को 5 लाख का बीमा करेंगे और अमृत दुकानो के माध्यम से कम खर्च पर दवाइया उपलब्ध करायी जायेगी। जेपी नड्डा बलिया के सहरस पाली गांव मे नव निर्मित रजनीकांत केंद्र अखंड ज्योति आई हॉस्पिटल का उद्घाटन करने के उपरांत आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। इसके पूर्व केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जेपी नड्डा व राज्यमंत्री स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अनुप्रिया पटेल तथा उत्तर प्रदेश सरकार के स्वास्थ्यमंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने रजनीकांत की मूर्ति का अनावरण किया। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि 25 लाख डायलिसिस के मुफ्त सेशन हुए हैं । 595 जिला अस्पतालों में डायलिसिस की मशीनें लगवाई गई है। कहा कि जिला अस्पतालों में तो हम डायलिसिस मशीन की व्यवस्था कर ही रहे हैं और स्वास्थ्य केंद्रों में भी इसकी व्यवस्था करने पर विचार चल रहा है। उन्होंने कहा स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन हुआ है और सरकार लोगों के लोगों के इलाज के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है। उत्तर प्रदेश सरकार ने भी इस दिशा में प्रभावी कदम उठाएं हैं। उन्होंने कहा अंधता निवारण में यह अस्पताल मील का पत्थर साबित होगा ।उन्होंने कहा कि इस तरह की संस्थाएं जो स्वास्थ्य के क्षेत्र में अमूल्य योगदान दे रही हैं उन्हें सरकार की ओर से नियमानुसार हर संभव सहयोग प्रदान किया जाएगा और भारत मे रोगियो की संख्या घटाने में हम सफल होंगे।

24 नये मेडिकल कालेज में आठ यूपी में कुलेंगे

अनुप्रिया पटेल ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत दी जा रही स्वास्थ्य सेवाओं के बारे में भी जानकारी दी ।उन्होंने बताया कि इस वर्ष 24 नए मेडिकल कॉलेज खोले जाने का प्रावधान किया गया है, जिसमें आठ उत्तर प्रदेश में खोले जाएंगे। इस अवसर पर उत्तर प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बताया कि इलाहाबाद में कुंभ के आयोजन के बाबत 1200 सौ करोड़ रुपया पहली किस्त के रूप में केंद्र सरकार द्वारा दिया गया है। उन्होंने कहा कि बलिया में 105 करोड़ की लागत से स्वास्थ्य सेवाओं में अनेक स्कीमे में लागू की गई हैं। उन्होंने कहा कि आक्सीजन के लिए यहां पर 6.5 करोड़ की गैस पाइपलाइन पड़ रही है। ट्रामा सेंटर में उपकरणों के लिए 72 करोड़ से व्यवस्था की गयी है। बलिया अस्पताल को सुपर स्पेशलिटी अस्पताल जैसी व्यवस्था देने का उनका प्रयास है। कार्यक्रम को नीति आयोग के सदस्य विनोद कुमार पाल, नीति आयोग के सलाहकार (स्वास्थ्य )आलोक कुमार व नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत आदि ने भी संबोधित किया। डीएम भवानी सिंह खंगारोत ने सभी का स्वागत करते हुए कहा कि जिला प्रशासन की ओर से स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों में हरसंभव सहयोग प्रदान किया जाएगा। पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय चंद्रशेखर के राजनीतिक सलाहकार एचएन शर्मा सहित अन्य लोगो ने विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर सांसद भरत सिंह, विधायक संजय यादव, विधायक धनंजय कनौजिया विधायक,आनंद स्वरूप शुक्ला,भाजपा जिलाध्यक्ष विनोद शंकर दुबे सहित अन्य गणमान्य नागरिक, जनप्रतिनिधि व अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

admin

No Comments

Leave a Comment