बलिया। गोन्हिया-छपरा गांव (बैरिया) के पूर्वी छोर से गुजरने वाले रेल ट्रैक के किनारे मंगलवार की सुबह एक युवक का शव मिलने से सनसनी फैल गयी। देखते ही देखते मौके पर सैकड़ों लोगों की भीड़ जुट गयी। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने काफी प्रयास किया लेकिन मृतक की शिनाख्त नहीं हो सकी। भीड़ के बीच युवक कहां का है? यहां कैसे पहुंचा? खम्भे में इसका शव कैसे लटका? कहीं इसकी हत्या तो नहीं की गयी है? इत्यादि तरह-तरह के सवाल तैर रहे थे। हत्या या आत्महत्या के बावत पूछे जाने पर एसएचओ गगन राज सिंह ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी। फिलहाल शव की शिनाख्त के प्रयास किये जा रहे हंै।

रेलवे के बिजली खंभे से लटका था शव

मंगलवार की सुबह गांव के लोग टहलने व शौच के लिए निकले तो उनकी नजर रेलवे विद्युत खम्भे से लटके शव पर पड़ी। कुछ लोगों ने बैरिया एसएचओ व आरपीएफ को इसकी सूचना दी। इस बीच, घटना स्थल पर काफी भीड़ जुटी गयी। विद्युत खम्भे पर लगभग 10 फिट से अधिक ऊंचाई पर नायलान की रस्सी को गांठ बांध कर युवक का शव जमीन से लगभग 4 फिट ऊंचाई पर लटक रहा था। उसके पैर में चप्पल उलझे थे। लगभग 30 वर्षीय युवक क्रीम कलर का टी-शर्ट व नीले रंग का लोवर पहने हुए था। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

एक साल के अंदर तीसरी घटना से दहशत

बैरिया में खम्भे से लटके अज्ञात युवक के शव ने कई सवाल खड़े कर दिये है, कारण कि एक साल के अन्दर उक्त स्थान पर मौत की यह तीसरी घटना है। इसके पहले बकरी चराते समय रेलवे लाइन के किनारे मिली पिस्टल से छेड़छाड़ कर रहे किशोर के हाथों चली गोली से उसकी ही बहन की मौत हो गयी थी। उस घटना को लोग भूले भी नहीं थे कि गोन्हियाछपरा गांव निवासी सुबाष सिंह ने सुसाइड नोट जेब में रख आत्महत्या की थी। अब इस युवक का शव मिला है, जो अज्ञात है।

admin

No Comments

Leave a Comment