वाराणसी। पूर्वांचल के बेरोजगारों को सेना में भर्ती कराने का झांसा देकर लाखों की उगाही करने वाले राजेश यादव को चौबेपुर एसओ ओमनारायण सिंह ने बुधवार को छापेमारी में धर-दबोचा। तलाशी में उसके पास से कई फर्जी ज्वाइंग लेटर व फर्जी मुहर तथा पैड के साथ दसरे कागजात बरामद हुए हैं। राजेश से पूछताछ के दौरान चौकाने वाली तथ्य प्रकाश में आये हैं। बेरोजगार युवकों को नौकरी दिलाने के नाम पर गिरोह के सदस्य बड़े सैन्य अधिकारी बनकर अभ्यथियों को साक्षात्कार, शारीरिक दक्षता तथा परीक्षा लेकर फर्जी ज्वांइग लेटर देकर एवज में लाखों रुपए ऐठकर रांची, पटना, गुवहाटी तथा अन्य स्थानों पर प्रशिक्षण के नाम पर बार-बार बुलाकर भेजते है। राजेश खुद को मेजर बताते हुए अभ्यार्थियों से मिलता था।

चार माह से तलाश कर रही थी पुलिस

चौबेपुर थाने में अक्टूबर 2017 से बेरोजगार नवयुवकों को सेना में नौकरी दिलाने के नाम पर सेना अधिकारी बनकर लाखों रुपए लेकर फर्जी ज्वाइंग लेटर देकर लगातार ठगे जाने की रिपोर्ट दर्ज करायी गयी थी। एक पीड़ित की तहरीर पर आईपीसी की धारा 420,467,468,471,504,506 के तहत मुकदमा कराया गया था। विवेचना के दौरान राजेश यादव निवासी उगापुर पण्डापुर का नाम प्रकाश में आया। नौकरी दिलाने वाले शातिर ठग को गिरफ्तार करने के लिए काफी दिनों से पुलिस प्रयासरत थी। सटीक सूचना के आधार पर एसओ ने छापेमारी में राजेश को धर-दबोचा। पुलिस टीम में एसआई प्रेमचन्द्र शर्मा, पंकज कुमार सिंह,विरेन्द्र राम, शिवशंकर सिंह चौहान, सुशील कुमार सिंह भी शामिल थे।

admin

No Comments

Leave a Comment