कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव में युद्धस्तर पर जुटा प्रशासन, रविवार को 8700 लोगों का थर्मल स्कैन संग जागरूकता पर जोर

वाराणसी। समूचे विश्व में काल का पर्याय साबित हो रही कोरोना महामारी के वायरस से संक्रमण एवं उससे बचाव हेतु जिला प्रशासन द्वारा युद्ध स्तर पर प्रयास किया जा रहा है। पीएम मोदी के आह्वान पर रविवार को ‘जनता कर्फ्यू’ देश की तरह उनके संसदीय क्षेत्र काशी में पूरी तरह प्रभावी रहा। लोग अपने-अपने घरों में रहे। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने रविवार को कैंट रेलवे स्टेशन पर पुणे, मुंबई, महाराष्ट्र के रास्ते आने वाले 6 ट्रेनों के 6450 यात्रियों का विशेष रूप से थर्मल स्कैन कराया गया। हाइपर क्लोराइड का 8 स्थानों पर छिड़काव किया गया। एंटी लार्वा का 5 मशीनों से 14 स्थानों तथा 7 स्थानों पर फागिंग कराया गया। प्रशासन के बनाए कोरोन्टाइन एरिया में दो व्यक्तियों को रखा गया है और पीडीडीयू राजकीय चिकित्सालय में एक संदिग्ध व्यक्ति को रखकर उसका इलाज किया जा रहा है।

फागिंग और सेनाटाइजेशन पर जोर

प्रशासन ने संबंधित विभागों की मदद से फागिंग और सेनाटाइजेशन पर खास जोर दिया है। इसके तहत शहरी क्षेत्र में 10 टीमों तथा ग्रामीण क्षेत्रों में 8 टीमें द्वारा फागिंग कर सेनिटाइज का कार्य लगातार जारी है। टीम के डाक्टरों द्वारा सम्भावित रोगियों की रिपोर्टिंग भी की जा रही है। भ्रमण के दौरान गठित टीमों के द्वारा पता भी लगाया जा रहा है कि कुछ दिन पहले यदि कोई विदेश यात्रा से आकर या दूसरे प्रदेशों की यात्रा से आकर जिले में कहीं ठहरा है तो उसको क्वारनटीन करने की सख्त हिदायत दी जा रही है और उसकी जांच भी की जा रही है।

बाहर से आने-जाने वालों पर है नजर

सतर्कता के क्रम में रेलवे, हवाई अड्डा पर आने वाले यात्रियों पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है। हवाई अड्डे पर रविवार की शाम 6 बजे तक 11 फ्लाइटों से कुल 969 यात्री वाराणसी आये तथा 11 फ्लाइटों से कुल 310 यात्री रवाना हुए। इनकी हवाई अड्डे पर गहन जांच की गई। मुम्बई, दिल्ली, जयपुर, बैगलोर, हैदराबाद आदि शहरों से उड़ाने आयीं और गयीं। वाराणसी में एक मात्र पाजिÞटिव पाये गये मरीज का इलाज जिला प्रशासन की निगरानी में चल रहा है।

Related posts