चन्दौली। सीएम का जिले के विभिन्न स्थानों पर गुरुवार को कार्यक्रम था लेकिन सपा नेताओं ने पूरी तरह से विरोध करने की ठान ली थी। विरोध की अंदेशा पुलिस को भी था जिसके लिए उसने तैयारी की थी। सीएम का काफिला जब सपा कार्यालय के सामने से गुजरा छत से जम कर योगी मुदार्बाद के नारे लगाते रहे। सपाई पुलिस से भिडंत को तैयार थे जिसका आभास होने पर इसकी अनदेखी कर दी गयी। बावजूद इसके हंगामा करने वाले सपा कार्यकर्ता नहीं माने तो पुलिस ने उनके ऊपर मिर्ची स्प्रे छोड़ दिया। इसका शिकार सकलडीहा के सपा विधायक प्रभु नारायण यादव भी हो गए। इसके बाद सपा नेताओं का पारा और चढ़ गया और हाईवे जाम करने के साथ सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। कुछ देर तो पुलिस और सपाइयों में गुत्थम गुत्थी होने लगी। धक्का मुक्की करने वाले सपा कार्यकर्ता सीएम से मिलकर मेडिकल कॉलेज को वापस दिलाने की मांग पर अड़े थे।

471

विधायक ने दी चेतावनी

विधायक प्रभु नारायण यादव का कहना था कि हर महीने की 13 तारीख को सपा कार्यालय पर मासिक बैठक होती है। पार्टी कार्यकर्ता जब मासिक बैठक के लिए जा रहे थे तो जिला प्रशासन द्वारा उनको जबरन रोका गया । यह लोकतंत्र के लिए अच्छी बात नहीं है। प्रशासन की यह दमनात्मक कार्यवाही का जोरदार तरीके से विरोध किया जाएगा। विधायक का यह भी आरोप था कि ने पार्टी कार्यालय में उन्हें दूसरे पार्टी नेताओं के साथ नजरबंद करके परेशान किया जा रहा है। पुलिस पर लगातार पार्टी कार्यकतार्ओं का उत्पीड़न करने का लगाया आरोप लगाते हुए कहा कि सीएम से मिलकर जिले की पुलिस के कारनामों से अवगत कराएंगे और विधानसभा सत्र में भी पुलिस उत्पीड़न का मुद्दा उठाया जाएगा।

admin

No Comments

Leave a Comment