वाराणसी। सिकरौरा कांड में बाहुबली एमएलसी बृजेश सिंह की टेंशन बढ़ने लगी है। अपर सत्र न्यायाधीश तृतीय राजीव कमल पाण्डेय की कोर्ट ने आरोपी एमएलसी बृजेश सिंह की तरफ से दिए गए उस आवेदन को ख़ारिज कर दिया जिसमें गैंगेस्टर मामले के निस्तारण तक सिकरौरा नरसंहार मामले की सुनवाई स्थगित किये जाने का अनुरोध किया गया था। कोर्ट ने कहा की दोनों मामले इसी कोर्ट में लम्बित है और उनकी सुनवाई प्रभावित नहीं हो रही है। कोर्ट ने सिकरौरा कांड में वादिनी हीरावती की गवाही के लिए 11 जनवरी की तिथि सुनवाई हेतु नियत कर दी।

हीरावती ने गवाही के लिए लगाई थी गुहार

हाईकोर्ट ने सिकरौरा नरसंहार मामले में आदेश दिया था कि वादिनी हीरावती की गवाही किसी भी हाल में स्थगित न किया जाय। ऐसे में आरोपी बृजेश की तरफ से दिए गए आवेदन को ख़ारिज करते हुए कोर्ट ने वादिनी हीरावती की गवाही के लिए 11 जनवरी की तिथि सुनवाई हेतु नियत कर दी।  इसके पहले गैंगेस्टर के निस्तारण तक इस मामले की सुनवाई पर रोक लगाने सम्बन्धी आवेदन पर दोनों पक्षों की ओर से बहस और दलील पेश की गई। इस दौरान कोर्ट में वादिनी भी कड़ी सुरक्षा के बीच गवाही के लिए पहुंची रही जबकि आरोपी बृजेश के बाबत जेल अधीक्षक ने बताया कि बीमारी के चलते वह हॉस्पिटल में भर्ती हैं। इस मामले में वादिनी हीरावती की तरफ से जिला जज की अदालत में प्रार्थना पत्र देकर अनावश्यक रूप से गवाही न कराने का आरोप लगाया था।

admin

No Comments

Leave a Comment