पुलिस के इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम से शुरू हुई टेली ओपीडी, दो डाक्टरों की दो शिफ्ट रहेगी लेकिन आने की नहीं अनुमति

वाराणसी। देश में घोषित लॉकडाउन की अभी आधी अवधि बीती है लेकिन लोगों को स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं शुरी होने लगी है। इसको देखते हुए जिले में टेली ओपीडी आरम्भ करने का निर्णय लिया गया है। डीएम कौशल राज शर्मा के मुताबिक सिगरा स्थित पुलिस के इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम में दो शिफ्टों में दो डॉक्टर तैनात रहेगें।

ऐसे किया जा सकता है सम्पर्क

टेली ओपीडी में सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक डाक्टर निशांत चौधरी मो. नं. 9839089512 पर उपलब्ध रहेंगे जबकि दोपहर 2 से रात 8 बजे तक जबकि डा. विकास श्रीवास्तव मो.नं. 9839360161 पर रहेंगे। डाक्टरो के इन मोबाइल नंबर के अलावा कंट्रोल रूम के नंबर 2508585 या टोल फ्री नंबर 1077 पर इनसे बात कर ट्रीटमेंट कराया जा सकता है। आवश्यकता होगी तो वह व्हाट्सएप्प वीडियो कॉल करके पेशेंट का डायग्नोसिस भी करेंगे। कोई भी बीमार व्यक्ति केवल फोन के माध्यम से इनसे संपर्क कर मेडिकल राय ले सकता है और दवाई नोट कर सकता है। यह डाक्टर्स केवल फोन पर ही उपलब्ध होंगे। मरीज केवल घर बैठे ही इनसे संपर्क कर सकता है। किसी मरीज के कंट्रोल रूम पर आने की अनुमति नहीं है। डॉक्टर को दिखाना ही हो तो मरीज को किसी अस्पताल ही जाना होगा।

दवा आपूर्ति को लेकर भी बैठक

इसके साथ ही डीएम ने दवाओं की आपूर्ति करने वाले ट्रांसपोर्टस एवं परिवहन विभाग के अधिकारियों संग बैठक की। उन्होंने दवाओं के नियमित आपूर्ति के संबंध में चर्चा की। ट्रांसपोर्टर्स द्वारा अवगत कराया गया कि लाकडाउन के कारण जनपद लखनऊ में ट्रांसपोर्ट बंद होने के कारण गाडियां जनपद में नहीं आ पा रही हैं। उन्होंने बताया कि इस संबंध में लखनऊ को पत्र लिखा जा रहा है ताकि मेडिकल एवं दवाओं की आपूर्ति में किसी प्रकार की बाधा उत्पन्न न हो। दवा सप्लाई करने वाले व्यापारियों/ट्रांसपोर्टर द्वारा बताया गया कि उनको दवा सप्लाई करने के लिए बार-बार आना जाना पड़ता है। इस पर डीएम ने कहा कि दवाइयों के ट्रांसपोर्ट करने में कोई रोक नहीं है। यदि किसी को परेशानी है तो आरटीओ के माध्यम से पास निर्गत करायें। उन्होंने एआरटीओ को निर्देशित किया कि दवा आपूर्ति करने वाले ट्रांसपोर्टर से समन्वय कर इसकी आपूर्ति को सुनिश्चित करायें।

Related posts