सोनभद्र। ऐसा लगता है कि बीजेपी के सांसदों को विकास कार्यों से ज्यादे अपनी पब्लिसिटी की चिंता सता रही है। तभी तो पोस्टर में फोटो नहीं छपी तो स्थानीय सांसद छोटेलाल खरवार मुंह फूलाकर बैठ गए। गुस्सा भी इस कदर कि सरकार की मर्यादा का भी ख्याल नहीं रखा। जिला प्रशासन के अफसरों को दलित विरोधी बताने लगे। यही नहीं उन्होंने डीपीआरओ के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की है।

अफसरों को बताने लगे दलित विरोधी

खुले में शौच मुक्ति संकल्प के तहत जिले में 130 किमी की मानव श्रृखंला कार्यक्रम का आयोजन किया गया। बताया जा रहा है कि जिला स्वच्छता भारत मिशन मैनेजमेंट कमेटी की ओर से जो पोस्टर और बैनर बनवाए गए थे, उसमें स्थानीय सांसद छोटेलाल खरवार की फोटो गायब थी। इन पोस्टरों में सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सीएम योगी आदित्यनाथ के अलावा जिले की प्रभारी मंत्री अर्चना पांडेय की फोटो थी। बताया जा रहा है कि पोस्टर को देखते ही माननीय सांसद भी खफा हो गए। उन्होंने इसे अपने स्वाभिमान से जोड़ते हुए जिला प्रशासन के अफसरों को दलित विरोधी बता दिया। हालांकि प्रभारी मंत्री पूरे मामले पर सफाई देती दिखीं।

admin

No Comments

Leave a Comment