बीएचयू की चीफ प्राक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने लंका थाने पहुंचे छात्र-छात्राएं

वाराणसी। बीएचयू की चीफ प्रॉक्टर रोयना सिंह द्वारा नर्सिंग की छात्रा को थप्पड़ मारना उनके लिए मुसीबत बनता जा रहा है। इस मामले ने शनिवार को उस समय दूसरा रूप से लिया जब थप्पड़ के बाद कान में दर्द की शिकायत लेकर चिकित्सालय पहुंची छात्रा ने जब कान का चेकअप करवाया तो उसे पता चला कि उसके कान का पर्दा फट गया है। इसकी जानकारी होने पर बड़ी संख्या आक्रोशित छात्र लंका थाने पहुंच गये। उनकी मांग थी कि इस मामले में पुलिस पीडिता की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर चीफ प्रॉक्टर के विरुद्ध कार्रवाई करे।

तीन दिन पहले विरोध-प्रदर्शन के दौरान का घटनाक्रम

गौरतलब है कि 29 नवम्बर को मान्यता को लेकर नर्सिंग महाविद्यालय के गेट पर प्रदर्शन कर रहे छात्रों को वहां से हटाते समय चफ प्रॉक्टर रोयना सिंह ने छात्रों पर थप्पड़ भी चलाया था। इस थप्पड़ का वीडियो वायरल होने के बाद पूरे बीएचयू सहित जिला प्रशासन से लगायत लखनऊ तक हड़कंप मच गया था। इस थप्पड़ के बाद लगातार कान में दर्द की शिकायत के बाद नर्सिंग की छात्रा ने जब डाक्टरों से चेकअप करवाया तो पता चला की उसके कान का पर्दा ही इस थप्पड़ ने फाड़ दिया है। छात्रा मंजू कुमारी के अनुसार कान में दर्द की शिकायत के बाद आज सर सुन्दर लाल चिकित्सालय में नाक, कान, गला रोग विशेषज्ञ डॉ राजेश कुमार को दिखाया तो उन्होंने चेकअप के बाद बताया की आप के एक कान के परदे में धमक से छेद होने की वजह से तकलीफ बतायी गयी।

जांच के बाद रिपोर्ट का आश्वासन

पीड़िता के संग बड़ी संख्या में नर्सिंग महाविद्यालय की छात्र छात्राएं लंका थाने पहुंचे और काशी हिन्दू विश्वविद्यालय की चीफ प्रॉक्टर रोयना सिंह के खिलाफ तहरीर दी। पुलिस का कहना था कि प्रकरण की जांच के बाद रपट दर्ज की जायेगी। सूत्रों की माने तो पुलिस के सम्पर्क करने पर डाक्टर ने यू टर्न ले लिया है। डाक्टर का कहना था कि थप्पड़ से ही नहीं बल्कि पहले की चोट से भी ऐसी शिकायत हो सकती है।

Related posts