जौनपुर। सूबे में भाजपा की सरकार बनने के बाद सपा समर्थित ब्लाक प्रमुखों की कुर्सी एक के बाद एक कर जा रही है। ताजा मामला डोभी विकास खंड का है जहां अविश्वास प्रस्ताव पर सोमवार को बैठक हुई। गहमा-गहमी के बीच 80 क्षेत्र पंचायत सदस्यों में से 68 ने वोट डाले। व्लाक प्रमुख शंकर यादव समेत 70 सदस्य बैठक में मौजूद थे। तकनीकी कारणों से इनकी गिनती नहीं की गयी है। बताया जाता है कि बैलट बाक्स सील कर दिया गया है और 16 फरवरी को डीएम के सामने इसे खोल कर मतों की गिनती की जायेगी। विरोधियों का दावा है कि ब्लाक प्रमुख के खिलाफ सभी ने वोट दिये हैं और इसकी औपचारिक घोषणा की जानी शेष है।

चार अविश्वास प्रस्ताव पास, अब किसकी बारी

अब तक खुटहन, सिकरार और बक्शा ब्लाक प्रमुख के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पास हो चुका है और डोभी का चौथा नंबर था। सूत्रों की माने तो इसके बाद करंजाकला की बारी है। इसके लिए प्रमुख विरोधी लाबी तेजी से सम्पर्क में जुटी है और अगले सप्ताह तक उनको भी अपदस्त करने की योजना तैयार हो चुकी है। खास यह कि भाजपा खुल कर सामने भले नहीं आ रही है लेकिन ब्लाक प्रमुखों को हटाने वाले गुट को पूरा समर्थन पार्टी की तरफ से मिल रहा है। पुलिस-प्रशासन भी यह भांप कर पूरी तरह से मुस्तैद रह रहा है।

admin

No Comments

Leave a Comment