गाजीपुर। एसएस कालेज और पीजी कालेज में एक साथ चुनाव कराने के पीछे मंशा थी कि छात्र एक-दूसरे स्थान पर दखलंदाजी नहीं करेंगे जिससे बवाल की संभवना नहीं रहेगी। गुरुवार की दोपहर तीन बजे नामांकन की प्रक्रिया शांतिपूर्ण डंग से समाप्त होने के बाद फोर्स भी वर्दी ढीली कर रिलेक्स मोड में थी। इस बीच स्वामी सहजानंद कालेज के सामने अध्यक्ष पद के दो दावेदारों के बीच तकरार मारपीट के बाद जबरदस्त पथराव में तब्दील हो गयी। सूचना पर पुलिस-प्रशासन के होश फाख्ता हो गये। कई थानों की फोर्स और भारी संख्या में पीएसी के साथ मौके पर सदर एसडीएम, एसपी सिटी, सीओ सिटी समेत आला अधिकारी पहुंचे। पुलिस ने इस मामले में सख्त रुख अख्तियार करते हुए डेढ़ दर्जन छात्रों का शंतिभंग की आशंका की धाराओं के तहत चालान करने के अलावा 10 वाहनों को जब्त किया है। घटनाक्रम के चलते आसपास की दुकानें बंदी रही और इलाके में तनावपूर्ण शांति रही।

शक्ति प्रदर्शन में बढ़ा बवाल

पूर्वघोषित कार्यक्रम के मुताबिक गुरुवार की सुबह से स्वामी सहजानंद कांलेज में छात्रसंघ चुनाव की नामांकन प्रक्रिया चल रही थी। विभिन्न पदों के प्रत्याशी अपने जुलूस लेकर पहुंच रहे थे और नामांकन कर रहे थे। फोर्स भी खासी तैनात थी जिसका नतीजा रहा कि कोई बवाल नहीं हुआ। नामांकन प्रक्रिया खत्म होने के बाद लगभग तीन बजे अध्यक्ष पद का एक प्रत्याशी कालेज गेट के सामने चुनाव प्रचार करते हुए भाषण दे रहा था। इसी बीच दूसरे अध्यक्ष पद के प्रत्याशी के समर्थक वहां पहुंचे और शोर मचाते हुए नारेबाजी शुरू कर दी। इसी को लेकर दोनों गुटों में पहले मारपीट हुई तो बाद में पथराव में तब्दील हो गयी। बहरहाल सीओ का दावा है कि शक्ति प्रदर्शन के दौरान हंगामा हुआ था लेकिन मारपीट-पथराव जैसी घटना नहीं हुई। दोनों पक्षों को हिरासत में लेकर चालान करने के संग वाहन जब्त किये गये हैं।

admin

Comments are closed.