जौनपुर। टीडी कालेज में बुधवार को आयोजित एक कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पहुचे अमर सिंह सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से लेकर राज्यसभा सांसद प्रो.रामगोपाल यादव और आजम खां पर अपने अंदाज में अमर्यादित बयानबाजी की थी। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ बयान देने वाले अमर सिहं जनपद के सपा नेता संजय यादव एडवोकेट के निशाने पर आ गए हैं। इस मामले में सपा नेता ने पलटवार करते हुए कहा कि ‘रोगी का इलाज है, लेकिन क्या मानसिक रोगी का कोई इलाज है?’अमर सिंह पर जुबानी हमला बोलते हुए भाजपा का चाटुकारिता सबसे निम्न स्तर पर करने वाला करार दिया। यहां तक कह डाला कि अगर अमर सिंह में हिम्मत है तो वह सपा से गए राज्यसभा से इस्तीफा देकर दिखायें। अमर सिंह ने जिस तरह सपा के वरिष्ठ नेताओं पर हमले किये,उसी तर्ज पर अब सपा नेता उनको निशाने पर ले रहे हैं। मीडिया से बातचीत में कहा अमर सिंह तो नेता हंै ही नहीं। वह सिर्फ सत्ता पक्ष की चाटुकारी करते हैं। टीवी चैनल व अखबारों की सुर्खियों के लिए ऐसी बयानबाजी करता है।

सपा को सुनायी थी खरी-खरी

दरअसल, अमर सिंह ने कार्यक्रम के बाद मीडिया से बातचीत में सपा को खरी-खरी सुनायी थी। अमर सिंह ने कहा था कि मैंने अखिलेश का एडमिशन कराया। मैंने टिकट दिलाया और अखिलेश ने मुझे ही पराया बोल दिया। अपना हो या पराया सबको डंक मारने का काम करते है अखिलेश। ऐसा कोई सगा नही जिसको अखिलेश ने ठगा नही। जबतक सपा में खलनायक रामगोपाल यादव रहेंगे विघटन होता रहेगा। सपा में अमर्यादित बयान देने वाले मुस्लिम नेता का चेहरा हंै आजम। मैं रामपुर गया पर आजम खान सामने नही आये। पता नही क्या हुआ जो उनके पैजामे में पेशाब हो गई। आजम खां के खिलाफ लड़ाई तब तक जारी रहेगी जब तक समाज को आजम जैसे कुकुरमुत्ते सम्मान नही दे देते हैं।

admin

No Comments

Leave a Comment