सोनभद्र। म्योरपुर वन रेंज के हरहोरी गांव में इधर दो दिनों से जंगली हाथी का काफी आतंक है। घरों की चहारदीवारी ढहाने के साथ ही हाथी ने कई लोगों के घरों में अनाज को भी काफी नुकसान पहुंचाया। हाथी के आतंक से गांववालों की रात दहशत में बीत रही है।
बताते चले कि पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ के जंगल से ये हाथी अक्सर रास्ता बदलकर सोनभद्र की ओर आ जाते हैं और सीमावर्ती गांवों में जबरदस्त ताडंव मचाते हैं। जनपद के म्योरपुर ब्लाक क्षेत्र के काचन, नौडीहा, पिपरहवा, किरविल, खजुरी, परनी, पडरी, खैराही, बलिहारी, नावाटोला, सूपाचुआ गांवों में तांडव मचाते आए हैं। बाद में सक्रिय होने वाले वन विभाग के कर्मचारी इन हाथियों को खदेड़कर छत्तीसगढ़ सीमा में कर देते हैं, लेकिन कुछ समय बाद यही हाथी फिर लौट आते हंै। महीने भर में दर्जनो गांवों के सैकड़ों घरों के साथ जंगली हाथी फसलों को भी तबाह कर चुके हैं। शुक्रवार को म्योरपुर गांव के हरखोरी में हाथियों ने तांडव मचाया। गांव के ही तेजू यादव ने बताया कि दीवार तोड़ आंगन में घुस हाथी ने ओसारी में रखा करीब एक कुन्तल धान चट कर गया। वहीं, रामधारी यादव की गेंहू की फसल को हाथी ने रौंद डाला। गांव की किस्मतिया देवी ने बताया कि मेरी चहारदीवारी को तोड़ आंगन में घुसे हाथी ने तीन दरवाजों की कुंडी को गजराज ने अपने सूड़ से तोड़ दिया। वहीं रामधारी का बहू ममता देवी का कहना है कि कल रात हाथी ने हमारे आंगन में जमकर उत्पात मचाया। हम लोग डर से घर में ही दुबके रहे। गांव के ही जसवंत यादव का कहना है कि जब से नवडीहा में हाथी ने एक महिला को अपने पैरों से कुचला है, हम लोग डर के मारे रात में सो नहीं रहे हैं। वही वनरक्षक सरोज पांडेय व ठेगु राम यादव का कहना है कि हाथी को भगाने में वन विभाग की पूरी टीम लगी हुई है। लुकार व तीन टप्पल बजाकर हाथी को भगाने का प्रयास किया जा रहा है।

admin

No Comments

Leave a Comment